" /> मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने किया वादा पूरा : उत्तर भारतीय मजदूरों के यात्रा प्रभार के लिए मुख्यमंत्री सहायता कोष से जिलाधिकारियों को दिए गए ५४ करोड़ 75 लाख का फंड

मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने किया वादा पूरा : उत्तर भारतीय मजदूरों के यात्रा प्रभार के लिए मुख्यमंत्री सहायता कोष से जिलाधिकारियों को दिए गए ५४ करोड़ 75 लाख का फंड

मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने उत्तर भारतीय मजदूरों ने वादा किया था कि जब तक महाराष्ट्र में रहेंगे। उनके खाने, रहने, नाश्ते आदि की पूरी व्यवस्था सरकार उठाएगी। उन्हें पूरी तरह से सुरक्षित घर पहुंचाने तक सरकार उनके साथ मजबूती से खड़ी रहेगी। उत्तर भारतीय मजदूरों को घर तक सुरक्षित पहुंचाने के लिए मुख्यमंत्री सहायता कोष से उनके रेलवे टिकट का भुगतान करने का वादा किया था। उसी वादे के पूरा करने के लिए राज्य के जिलाधिकारियों के खाते में मुख्यमंत्री सहायता कोष से 54 करोड़ 75 लाख का फंड वितरित किया गया है।
लॉक डाउन अवधि के दौरान उत्तर भारतीय मजदूरों को उनके राज्य में भेजने के लिए उसी प्रकार अन्य राज्य में फंसे महाराष्ट्र के स्थानातरित मजदूरों को लाने के रेलवे टिकट शुल्क का भुगतान मुख्यमंत्री सहायता कोष से भरने की मंजूरी मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने दी थी। उसके अनुसार 36 जिले के 54 करोड़ 75 लाख 47 हजार 70 रुपए की निधि का यह संबंधित जिलाधिकारी खाते में जमा किए गए है। कोविद-19 के कारण तालाबंदी की घोषणा की गई थी और महाराष्ट्र में दूसरे राज्यों के मजदूर फंसे हुए है। इसी प्रकार महाराष्ट्र के श्रमिक दूसरे राज्यों में फंसे हुए हैं। मुख्यमंत्री के इस फैसले से उन्हें काफी राहत मिलेगी। यह व्यवस्था आपदा प्रबंधन और राहत पुनर्वास सचिव द्वारा दिया गया। जिला कलेक्टरों की सूची के अनुसार, मुख्यमंत्री सहायता कोष से वित्तीय सहायता स्वीकृत की गई है। इस निधि का उपयोग केवल उसी उद्देश्य के लिए किया जा सकता है, जिसके लिए इसे निर्धारित किया गया है। यह स्पष्ट किया गया है।

मुंबई शहर- 12,96,00,000,
मुंबई उपनगर- 10,00,00,000,
ठाणे- 4,80,00,000,
रायगड- 2,50,00,000
रत्नागिरी- 1,50,00,000
पालघर- 3,00,00,000
सिंधुदूर्ग- 1,00,00,000
नासिक- 40,00,000
धुले- 25,00,000 नंदुरबार              25,00,000
जलगांव- 20,00,000
नगर- 20,00,000
पुणे- 8,00,00,000
सातारा- 95,81,270
सांगली- 30,00,000
सोलापूर- 50,00,000
कोल्हापुर- 1,25,91,400
संभाजीनगर- 80,00,000
जालना- 50,00,000
बीड- 30,00,000
परभणी- 50,00,000
हिंगोली- 6,00,000
नांदेड- 20,00,000
धाराशिव- 20,00,000
लातूर- 60,00,000
अमरावती- 30,00,000
अकोला- 12,74,400
वाशिम- 10,00,000
बुलढाणा- 20,00,000
यवतमाल- 35,00,000
नागपूर- 1,20,00,000
वर्धा- 30,00,000
गोंदिया- 25,00,000
भंडारा- 24,00,000
चंद्रपूर- 30,00,000
गडचिरोली- 15,00,000
कुल रुपए 54,75,47,070 का फंड वितरित किए गए हैं।