तुम्हारे जैसे चूहों को मारने के लिए बिल्ली ही चाहिए! उद्धव ठाकरे का खिल्ली उड़ानेवालों को मुंहतोड़ जवाब

मैं गुंडागर्दी खत्म कर दूंगा, ऐसा कहने पर यहां के विपक्षियों को मिर्ची लग गई और वे तिलमिला उठे। वे कहते हैं कि उद्धव ठाकरे बाघ नहीं, बिल्ली हैं। अरे, तुम तो चूहे हो, तुम्हें मारने के लिए बाघ क्यों चाहिए? बिल्ली ही काफी है। बिल्ली हमारे बाघ की मौसी है। हम अपनी मौसी से कहेंगे… जाओ और उस चूहे को मारकर आओ। इन शब्दों में शिवसेनापक्षप्रमुख उद्धव ठाकरे ने खिल्ली उड़ानेवालों को मुंहतोड़ जवाब दिया।
कल पालघर लोकसभा निर्वाचन क्षेत्र के शिवसेना-भाजपा महायुति प्रत्याशी राजेंद्र गावित के प्रचारार्थ वसई और पालघर के सोपारा व  सर्कस मैदान में भव्य सभा आयोजित की गई थी। इस सभा को संबोधित करते हुए उद्धव ठाकरे ने यहां व्याप्त गुंडागर्दी पर जोरदार हंटर चलाया। वसई, विरार और वहां के हरित क्षेत्र को गुंडागर्दी का दीमक लग गया है। बिल्डरों द्वारा स्क्वायर फीट के पीछे मनमानी वसूली की जा रही है। यह दीमक पालघर में लगने नहीं देंगे बल्कि उसे मसल डालेंगे, ऐसा दृढ़संकल्प लेते हुए उन्होंने उपस्थित जनसमुदाय से आह्वान किया कि एकजुट होकर अपने वोटों की बौछार से गुंडागर्दी के इस दीमक को नष्ट करो। उद्धव ठाकरे के ऐसा कहते ही उपस्थित लोगों ने ‘कोण आला रे कोण आला, शिवसेने चा वाघ आला’, ‘उद्धव ठाकरे आगे बढ़ो, हम तुम्हारे साथ हैं’ का जयघोष किया। गर्मी का पारा ४२ डिग्री होने के बाद भी मैदान में जनसैलाब उमड़ा था। इस तपती सभा में उद्धव ठाकरे ने विपक्ष पर हमला बोलते हुए महायुति के प्रत्याशियों को रिकॉर्डतोड़ वोटों से जिताने का आह्वान भी किया।
कलाकार, डॉक्टर और वकीलों से बातचीत
उद्धव ठाकरे ने पालघर की सभा से पहले वसई के कलाकारों, डॉक्टर, वकील और पर्यावरण प्रेमियों से बातचीत कर उनकी समस्याओं को समझा और वहां के निवासियों का जीवनस्तर सुधारने का वचन दिया। वसई-विरार मनपा में व्याप्त भ्रष्टाचार, जल आपूर्ति, सड़कें, स्वच्छता आदि कई समस्याओं की शिकायत वसई के प्रतिष्ठित लोगों ने उद्धव ठाकरे से की। वसई-विरार के विकास के लिए शिवसेना-भाजपा महायुति निश्चित ही पहल करेगी, ऐसा वचन भी उन्होंने इस दौरान दिया।
शिवसेना-भाजपा को अब जीतने की और हमारे विरोध में यहां खड़े रहनेवालों को गिरने की आदत हो गई है। अब ऊपर से ही शुरुआत करेंगे। पहले लोकसभा जीतेंगे… फिर विधानसभा… फिर मनपा… जिलापरिषद और पंचायत समितियां। विरोधियों को और एक बार इतनी जोर से पटको कि वे दोबारा कभी खड़े न हो पाएं। जो काम करना है, पक्का करो ताकि यह दीमक दोबारा न लग पाए, ऐसा जोरदार आह्वान शिवसेनापक्षप्रमुख उद्धव ठाकरे ने उपस्थित जनसमुदाय से किया।
महाराष्ट्र में लोकसभा चुनाव प्रचार का कल अंतिम दिन था। इससे पहले विपक्ष पर अंतिम प्रहार करने के लिए उद्धव ठाकरे की वसई और पालघर में दो धमाकेदार भव्य सभाएं हुर्इं। चिलचिलाती धूप में उद्धव ठाकरे ने विरोधियों पर अपनी तोप दागी। पालघर में आने से पहले वसईकरों से मिला, इन शब्दों में भाषण की शुरुआत करते हुए उद्धव ठाकरे ने कहा कि वहां भी अनगिनत लोगों ने मुझे अपनी व्यथा बताई। तब मैंने उन्हें वचन दिया कि यहां से मैं गुंडागर्दी जड़ समेत उखाड़ फेंकूंगा, मतलब उखाड़ कर ही रहूंगा।
इस मौके पर शिवसेना नेता व पालकमंत्री एकनाथ शिंदे, शिवसेना सचिव मिलिंद नार्वेकर, पालघर जिलासंपर्कप्रमुख व विधायक रवींद्र फाटक, श्रमजीवी संगठन के संस्थापक विवेक पंडित, लोकसभा संगठक श्रीनिवास वनगा आदि उपस्थित थे।
२९ गांव और वाढवण बंदरगाह
उद्धव ठाकरे ने २९ गांव और वाढवण बंदरगाह के संदर्भ में भूमिपुत्रों को वचन दिया कि शिवसेना आपके साथ है। वसई के २९ गांवों को मनपा से हटाया जाएगा और अगर पालघरवासियों का विरोध है तो वाढवण बंदरगाह की एक भी र्इंट रखने नहीं दूंगा।