" /> ट्रेनें तो नहीं खुलेंगी, पर मजदूरों को भेजने का रास्ता निकाल रहे हैं और घर पर बैठकर नमाज अदा करें – मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे

ट्रेनें तो नहीं खुलेंगी, पर मजदूरों को भेजने का रास्ता निकाल रहे हैं और घर पर बैठकर नमाज अदा करें – मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे

महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने स्पष्ट किया कि ट्रेनें नहीं चलेंगी लेकिन राज्य के कोटा में फंसे छात्रों को लाया जाएगा साथ ही घर पर रहकर ही इबादत करें, ये बात महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने कही।
महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने कहा है कि राज्य में फंसे मजदूरों को वापस भेजने के लिए सरकार हरसंभव कोशिश कर रही है। उन्होंने कहा कि एक बात तो तय है कि ट्रेनें नहीं खुलेंगी लेकिन मजदूरों को उनके घर भेजने के लिए सरकार लगातार कोशिश कर रही है और इस बाबत दूसरे राज्यों से बात की जा रही है। उद्धव ठाकरे ने कहा कि ट्रेन खुली तो भीड़ होगी और अगर भीड़ हुई तो संक्रमण बढ़ने का और भी अंदेशा रहेगा। इस वजह से लॉक डाउन को और भी बढ़ाना पड़ेगा। सीएम ने कहा कि कोटा में फंसे राज्य के छात्रों को भी सरकार वापस लाने के लिए बात कर रही है। उन्होंने कहा कि इस आपदा की आशंका किसी को नहीं थी। उन्होंने कहा कि हिंदू, मुस्लिम, क्रिस्चन सहित सभी धर्मों को धन्यवाद देना चाहिए। उद्धव ठाकरे ने मुस्लिम समुदाय के लोगों से अपील करते हुए कहा कि वे कोरोना से जंग में सहयोग करें। सीएम ने कहा कि अभी गलियों में आकर नमाज पढ़ने का वक्त नहीं है। सीएम ने कहा कि वे लोगों से अपील करते हैं कि लोग घर में ही रहकर नमाज अदा करें। सीएम ने कहा कि भगवान कहां हैं? इस वक्त हमारे भगवान डॉक्टर, पुलिस, नर्स और सफाई कर्मचारी ही हैं, उनका आदर करना ही असली पूजा है। राज्य में कोरोना की स्थिति पर टिप्पणी करते हुए सीएम ने कहा कि लॉक डाउन की वजह से हम कोरोना का तेजी से संक्रमण रोकने में सफल रहे हैं। केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी की तारीफ करते हुए उन्होंने कहा कि उन्होंने राज्य के लोगों को सलाह दी है कि इस वक्त राजनीति न करें। ये अच्छी पहल है। महाराष्ट्र में ही सिर्फ 100 से ज्यादा पुलिसकर्मी कोरोना वायरस की चपेट में आ चुके हैं। राज्य में कुल 107 पुलिसकर्मी कोरोना पॉजिटिव हैं। इनमें 20 पुलिस ऑफिसर और 87 जवान हैं। 7 पुलिस अधिकारी कोरोना से इलाज करवाकर ठीक हो चुके हैं, जबकि इलाज के दौरान दो पुलिसकर्मियों की मौत हो चुकी है। मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने कहा कि इन पुलिस के जवानों को सरकारी नियमों के मुताबिक मुआवजा तो दिया ही जाएगा, इसके अलावा भी सरकार कोशिश करेगी।