" /> बांद्रा स्टेशन पर मजदूरों की भीड़ जुटानेवाले आरोपी विनय दुबे को मिली जमानत

बांद्रा स्टेशन पर मजदूरों की भीड़ जुटानेवाले आरोपी विनय दुबे को मिली जमानत

मुंबई में लॉक डाउन के दौरान प्रवासी मजदूरों की भीड़ जुटानेवाले आरोपी विनय दुबे को मंगलवार को जमानत मिल गई| बांद्रा की एक अदालत ने विनय को 15,000 के निजी मुचलके पर जमानत दे दी| विनय पर लॉक डाउन के दौरान फेसबुक की एक पोस्ट और वीडियो के जरिए मुंबई में रह रहे दूसरे राज्यों के मजदूरों को गुमराह करने एवं भीड़ जुटाने का आरोप है|
बता दें कि देश में जारी लॉक डाउन के बावजूद 14 अप्रैल को बांद्रा रेलवे स्टेशन के बाहर हजारों की संख्या में भीड़ जुट गई थी| लोग लॉक डाउन के नियमों का उल्लंघन करते हुए एक जगह जमा हो गए थे, जिसके चलते पुलिस ने विनय दुबे नामक को गिरफ्तार किया था। आरोप है कि विनय दुबे ने उत्तर भारतीयों के बीच अपनी राजनीति चमकाने की मंशा से फेसबुक पोस्ट के जरिए लोगों को उनके गांव पहुंचाने का झांसा दिया था तथा भीड़ को उनके गांव वापस लौटने के लिए उकसाया था, जिसके चलते बांद्रा रेलवे स्टेशन और ठाणे के मुंब्रा में बड़ी संख्या में मजदूर लॉक डाउन तोड़कर सड़कों पर आ गए| मंगलवार को अदालत द्वारा विनय को जेल हिरासत में भेजा गया| जेल हिरासत मिलते ही उसने जमानत की याचिका दाखिल की, जिस पर सुनवाई करते हुए अदालत ने विनय को जमानत दे दी| अदालत ने 15,000 के निजी मुचलके पर विनय को जमानत दी है| इसके अलावा अदालत ने कुछ शर्तें लगाते हुए उसे निर्देश दिए हैं कि वह मामले की जांच में पूरा सहयोग करेगा| उसके द्वारा किसी भी सबूत को मिटाने की कोशिश नहीं की जानी चाहिए|साथ ही उसे अपना सही पता पुलिस को देना होगा| गौरतलब हो कि विनय के खिलाफ आईपीसी की धारा 188 और मारामारी के नियमों के तहत मामला दर्ज किया गया था|