रफ्ता-रफ्ता मिली रफ्तार! विरार-डहाणू रेल परियोजना का भूमि अधिग्रहण का काम शुरू

सरकार वही है, जो पहले थी इसलिए अब उन सभी परियोजनाओं में ताकत फूंकी जा रही है, जिनकी योजना गत पांच वर्षों में बनी थी। मुंबई उपनगरीय रेलवे के लिए पश्चिम रेलवे पर विरार से डहाणू के बीच तीसरी-चौथी रेल लाइन बिछाना एमयूटीपी-३ परियोजना के अंतर्गत है। लंबे अरसे से भूमि अधिग्रहण में होनेवाली बाधाओं के कारण इस परियोजना का काम सुस्त पड़ा था लेकिन अब दोबारा महायुति की सरकार आने के बाद रफ्ता-रफ्ता सभी परियोजनाओं को रफ्तार मिलनी शुरू हो गई है। मुंबई रेल विकास कॉरपोरेशन के अधिकारियों के अनुसार विरार-डहाणू रेल परियोजना के लिए भूमि अधिग्रहण का काम शुरू हो गया है।
एमयूटीपी ३ का हिस्सा है
परियोजनाएं प्लानिंग स्टेज पर तैयार हैं। इन्हें साकार करने के लिए जमीन की जरूरत होगी, जो राज्य सरकार की ओर से मुहैया कराई जाएगी। बात दें कि रेलवे और सरकार ने अपनी पिछली मीटिंग में पनवेल-कर्जत और विरार-डहाणू रेल परियोजनाओं पर अधिक दिलचस्पी दिखाई थी। इन दोनों परियोजनाओं के लिए रेलवे की जमीन तैयार है लेकिन कुछ हिस्से का अधिग्रहण अभी करना है। विरार-डहाणू रूट पर दो और लाइन बिछाने के लिए ४८ हेक्टेयर्स भूमि अधिग्रहण करना है। एक अधिकारी ने बताया कि प्रोजेक्ट की प्रगति के दौरान एमआरवीसी ने जल्दी ही जमीन दिलाने का निवेदन किया था। इस पर राज्य सरकार ने १५ जून तक भूमि अधिग्रहण का काम पूरा करने का आश्वासन दिया है, जो अब शुरू हो गया है
विरार-डहाणू चार लाइन
एमयूटीपी-३ के अंतर्गत ही पिछले बजट में ३,५५५ करोड़ रुपए और ६३ कि.मी. लंबे विरार-डहाणू कॉरिडोर चौहरीकरण की घोषणा की गई थी। फिलहाल इन दोनों स्टेशनों के बीच दो ट्रैक बने हुए हैं। मुंबई-अमदाबाद रेलवे रूट के इन दो महत्वपूर्ण स्टेशनों के बीच कुछ साल पहले ही उपनगरीय सेवाएं शुरू की गई थीं। अब उपनगरीय सेवाओं का विस्तार करना है, इसलिए दो ट्रैक और बिछाने पड़ेंगे। इससे उपनगरीय सेवाओं के अलावा लंबी दूरी की ट्रेनों की आवाजाही भी आसान होगी।
३० गांवों में जमीन है
विरार-डहाणू रेल परियोजना के लिए कुल ३० गांव की जमीन लगेगी। इसमें पालघर के २० गांव, वसई के ६ गांव और डहाणू के ४ गांवों की जमीन का समावेश है। इस परियोजना के लिए कुल १८० हेक्टेयर जमीन की जरूरत है। इनमें ३२.७८ हेक्टेयर निजी, ११.०६ हेक्टेयर राज्य सरकार की तो वहीं ३ .७८ हेक्टेयर वन भूमि है। कुल मिलाकर ४२.६७ हेक्टेयर जमीन का संपादन किया जाना है।
बनेंगे स्टेशन
विरार-डहाणू मार्ग पर फिलहाल विरार, वैतरना, सफाले, केलवे रोड, पालघर, उमरोली, बोईसर, वान गांव, डहाणू रोड स्टेशन हैं। इस रूट पर वाधीव, सरतोड़ी, मकूनसर, चिंतु पाड़ा, खराले गांव, पंचाली, वंजारवाड़ा, बीएसईएस कॉलोनी नए स्टेशन होंगे।