रोड नहीं, वाटर टैक्सी से पहुचेंगे एयरपोर्ट ४० मिनट में नई मुंबई

मुंबई में वाटरवेज को बढ़ावा देने के लिए सरकार द्वारा कई परियोजनाएं चलाई जा रही हैं। केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी ने अपनी महत्वाकांक्षी परियोजना वाटर टैक्सी का एक बार फिर अपने भाषण में उल्लेख किया। महानगर में इटली जैसे वाटरवेज सिस्टम बनाने और लोगों को नई मुंबई एयरपोर्ट पहुंचने के लिए वाटर टैक्सी लाने की बात कही है। यदि वाटरवेज बन जाता है तो भिवंडी से नई मुंबई एयरपोर्ट आने के लिए ४० से ५० मिनट का ही समय लगेगा।
बता दें कि महाराष्ट्र मेरीटाइम बोर्ड, सिडको, मुंबई पोर्ट ट्रस्ट (एमबीपीटी) और जवाहरलाल नेहरू पोर्ट ट्रस्ट (जेएनपीटी) द्वारा ५ स्पीड बोट टैक्सी खरीदी जा रही हैं। एक वाटर टैक्सी की कीमत ७ करोड़ रुपए बताई जा रही है। भाऊचा धक्का में वाटर टैक्सी स्टैंड बनाया जाएगा। वहां से यह वाटर टैक्सी ठाणे, नेरुल, कारंजा, कान्होजी आंग्रे, बेलापुर, नई मुंबई एयरपोर्ट तक जाएगी। अब इस वाटरवेज के विस्तार की बात नितिन गडकरी ने कही है। अब वसई-विरार, भिवंडी से लोग गाड़ियों की बजाय वाटर टैक्सी से नई मुंबई एयरपोर्ट पहुंच सकते हैं। अपने महत्वाकांक्षी वाटर टैक्सी परियोजना का जिक्र करते हुए गडकरी ने कहा कि जैसे ही नई मुंबई अंतरराष्ट्रीय एयरपोर्ट शुरू हो जाएगा, लोग आराम से वॉटर टैक्सी के जरिए सीधे एयरपोर्ट पहुंच सकेंगे। उन्होंने कहा कि जिस तरह इटली के शहर वेनिस में लोग होटलों से बाहर निकलकर सीधे वॉटर टैक्सी पर सवार हो एयरपोर्ट पहुंचते हैं, वैसे ही यहां भी होगा।