" /> इंदौर में आफत बनी बरसात!, सड़कों पर भरा पानी

इंदौर में आफत बनी बरसात!, सड़कों पर भरा पानी

-बिजली के तारों पर गिरे पेड़

– बिजलीकर्मियों ने रात भर किया काम

मध्य प्रदेश के इंदौर जिले में कल रात तेज आंधी-तूफान के साथ बरसात हुई। पानी निकासी की व्यवस्था न होने से जहां सड़कें लबालब भर गईं, वहीं बिजली के तारों पर पेड़ गिर गए। इससे कई क्षेत्रों में बिजली सप्लाय प्रभावित हुई। साथ ही बरसात की वजह से बत्ती गुल होने की 300 से ज्यादा शिकायतें दर्ज की गईं। जिन कॉलोनी-मोहल्लों में बत्ती गुल हई, वहां पर बिजलीकर्मियों ने रात में ही काम करके सप्लाई सामान्य किया।

मध्य प्रदेश में धीरे-धीरे मानसून सक्रिय होने लगा है। शहर के अलग-अलग क्षेत्रों में मानसूनी बादल बरस रहे हैं। कल शाम से लेकर देर रात तक शहर के पश्चिम और पूर्वी क्षेत्र के कई हिस्सों में बरसात हुई। रात 9 बजे के आसपास तेज-आंधी तूफान के साथ बरसात हुई। इससे शहर की मुख्य सड़कों पर पानी भर गया, जिसने बरसात के पानी निकासी को लेकर नगर निगम द्वारा की जा रही तैयारियों की पोल खोलकर रख दी। साथ ही निगम के किए जा रहे कामों पर सवालिया निशान लगा दिए, क्योंकि थोड़ी ही देर की बरसात में शहर की सडकों पर जलभराव हो रहा है तो फिर एक साथ तीन से चार इंच पानी बसरने पर क्या होगा?

इधर, तेज-आंधी तूफान के साथ हुई बरसात में जहां बिजली के तारों पर पेड़ और बड़ी-बड़ी डालियां गिर गईं, वहीं फीडर और लाइन भी फॉल्ट हुए। इससे पश्चिम क्षेत्र बिजली वितरण कंपनी के मेंटेनेंस की पोल खुल गई, क्योंकि बरसात की वजह से शहर के कई क्षेत्रों में बत्ती गुल हुई और कंपनी के पास 300 से ज्यादा शिकायतें बिजली जाने की दर्ज हुईं। बिजली के तारों पर पेड़ गिरने की घटना बख्तावरराम नगर और पूर्वी रिंग रोड से लगी उत्कृष्ट स्टेट कॉलोनी में हुई। पेड़ गिरने से फीडर बंद हो गए और इन कॉलोनियों सहित आसपास की कई कॉलोनियों में बत्ती गुल हो गई। इनके अलावा शहर के अन्य क्षेत्रों में भी बिजली गुल हुई। लोगों की शिकायतें बढऩे पर रात में ही बिजलीकर्मियों ने मोर्चा संभाला और बरसते पानी में फॉल्ट ढूंढ़कर सुधार कार्य करके बिजली सप्लाई को सामान्य किया। हालांकि तेज आंधी-तूफान के साथ बरसात होने पर शहर के कुछ हिस्सों में बिजली वितरण कंपनी ने 10 से 15 मिनट के लिए सप्लाय बंद की, ताकि फीडर, ट्रांसफार्मर और लाइनों को फाल्ट होने से बचाया जा सके।