मुख्यपृष्ठनए समाचारकोरोना काल में भी जारी रहा शाश्वत विकास! नहीं रुकने दी अर्थ...

कोरोना काल में भी जारी रहा शाश्वत विकास! नहीं रुकने दी अर्थ व्यवस्था -पर्यावरण मंत्री आदित्य ठाकरे

सामना संवाददाता / मुंबई
शिवसेना की कल बीकेसी में विराट महासभा आयोजित की गई थी। उपस्थित जनसैलाब को संबोधित करते हुए पर्यावरण मंत्री आदित्य ठाकरे ने कहा कि कोरोना काल में भी शाश्वत विकास जारी रखा। हमने इस बीच अर्थव्यवस्था की रफ्तार को थमने नहीं दिया। महाविकास आघाड़ी सरकार ने कोरोना काल में कई विकास काम किए। उन्होंने कहा कि मुंबई मॉडल के जरिए कोरोना महामारी की हर लहर को रोकना संभव हुआ है, जिसकी सराहना पूरे विश्व में हो रही है।
पर्यावरण मंत्री आदित्य ठाकरे ने आगे कहा कि कोरोना महामारी के दौरान बीकेसी में सबसे बड़े कोविड सेंटर को शुरू किया गया। उन्होंने कहा कि जब विश्व पर संकट आता है तो डब्ल्यूएचओ को धारावी पैटर्न क्या है यह दिखाने के लिए हमारे मुख्यमंत्री होते हैं, शिवसैनिक होते हैं। उन्होंने कहा कि महाविकास आघाड़ी सरकार के कार्यकाल का ढाई साल बीत चुका है। देशभर में लगातार दो बार टॉप पांच और टॉप तीन में हमारे मुख्यमंत्री के नाम उनके द्वारा किए गए कार्यों से आया है। यह अभिमान मुझे बेटा अथवा शिवसैनिक होने के तौर पर नहीं है, बल्कि देश का नागरिक होने के नाते है। जिस राज्य ने कोरोना काल में देश को दिशा दिखाने का काम किया है, उस राज्य के मुख्यमंत्री की हम सभी को मिलकर प्रशंसा करनी चाहिए।

कोरोना काल में शिवसेना नेता करते रहे काम

पर्यावरण मंत्री आदित्य ठाकरे ने कहा कि कोरोना काल में शिवसेना का एक भी नेता नहीं रुका। सभी नेता घूमते हुए लोगों की मदद करते रहे। इस बीच विकास का भी पहिया चलता रहा। मेट्रो और कोस्टल रोड का काम ६० फीसदी पूरा हो चुका है। इसी तरह मुंबई ट्रांसहार्बर लिंक योजना का भी काम ६३ फीसदी किया जा चुका है। उन्होंने कहा कि हम आंखें बंद करके नहीं बैठे हैं। मनपा और सरकार के कई काम हैं। ऐसे नेतृत्व को हमें आगे बढ़ाना चाहिए। उन्होंने कहा कि ८ मार्च, २०२० को उपमुख्यमंत्री अजीत पवार ने राज्य का बजट पेश किया, जिसमें उन्होंने किसान कर्जमुक्ति की घोषणा की थी। किसानों का कर्ज माफ हो चुका है।

परिवार के सदस्य की तरह मुख्यमंत्री जनता को देते थे संदेश

आदित्य ठाकरे ने कहा कि देश में लॉकडाउन के बाद राज्य के मुख्यमंत्री फेसबुक पर लाइव आकर जनता को संदेश देते थे। उस समय ऐसा लगता था कि वे अपने परिवार के सदस्य हैं। उन्होंने कहा कि समाज में तनाव निर्माण करने और झगड़ा लगाने की बजाय घरों में चूल्हा जलाना चाहिए।

जब भावुक हुए आदित्य ठाकरे…

अपने भाषण की शुरुआत करने से पहले आदित्य ठाकरे ने सबसे पहले मंच से ही शिवसैनिकों को दंडवत प्रणाम किया। उन्होंने कहा कि शिवसैनिकों में मुझे हनुमान, श्रीराम, शंकर, गणपति बाप्पा, मेरे दादा शिवसेनाप्रमुख और मेरी दादी नजर आ रही हैं। सभी शिवसैनिक हमारे कवच-कुंडल हैं। आपके आशीर्वाद से ही हम सभी मंत्री बने हैं और शिवसेना का मुख्यमंत्री है।

 

 

अन्य समाचार