मुख्यपृष्ठअपराधलखनऊ, बाराबांकी और अयोध्या में आतंक बन चुके साइको किलर को ग्रामीणों...

लखनऊ, बाराबांकी और अयोध्या में आतंक बन चुके साइको किलर को ग्रामीणों ने दबोचा

एक और महिला को घसीट कर ले जा रहा था तभी!
मनोज श्रीवास्तव/लखनऊ। यूपी के बाराबांकी और अयोध्या में आतंक का पर्याय बन चुके साइको किलर को ग्रामीणों ने पकड़ कर पुलिस के हवाले कर दिया। पुलिस ने बताया कि सीरियल किलर को उस समय गिरफ्तार किया गया है जब वह एक महिला को हुनहुना गांव के पास खेतों में घसीट कर ले जा रहा था। तभी उसे एक महिला ने ऐसा करता देख लिया। उसने चिल्लाना शुरू किया तो गांव के लोग एकत्रित हो गये। उन्होंने आरोपी को पकड़ा और पुलिस को सूचना देकर उसे उनके हवाले कर दिया। मवई पुलिस ने आरोपी से पूछताछ की तो उसने चार हत्याओं के जुर्म को कबूल किया है। 24 वर्षीय अमरेंद्र ने बाराबंकी में तीन और अयोध्या में एक महिला की हत्या की थी। चार हत्याओं के बाद पुलिस को अमरेंद्र की तलाश थी। साइको किलर अधेड़ उम्र की महिलाओं को अपना शिकार बनाता था। उसने दुष्कर्म करने के बाद उनकी बेरहमी से हत्या कर देता था। इसकी की तलाश में बाराबंकी पुलिस की 6 टीमें लगी हुई थी। पुलिस ने उसकी तस्वीर सोशल मीडिया पर शेयर कर उसे पकड़वाने की अपील भी की थी।

रेप के बाद करता था हत्या
बाराबंकी के रामसनेहीघाट से 8 किमी की दूरी पर अयोध्या जिले का मवई थाना क्षेत्र में 5 दिसंबर 2022 को खुशेटी गांव की 60 वर्षीय महिला घर से कुछ काम के लिए निकली थी। जब वह शाम तक नहीं लौटी तो घरवालों ने खोजबीन के बाद थाने में गुमशुदगी दर्ज करवाई। फिर 6 दिसंबर दोपहर के वक्त पुलिस को महिला का शव मिला। लाश पर कोई कपड़ा नहीं था। महिला के चेहरे और सिर पर चोटों के निशान थे। पोस्टमॉर्टम रिपोर्ट में सामने आया कि रेप के बाद गला दबाकर हत्या की गई है। लेकिन अपराधी कौन है ये किसी को पता नहीं चला। इसके बाद रामसनेहीघाट कोतवाली से 4 किमी की दूरी इब्राहिमाबाद गांव में 17 दिसंबर 2022 को यहां के एक खेत से 62 साल की बुजुर्ग महिला की लाश बरामद हुई थी। लाश शाम के वक्त बरामद हुई, लेकिन हत्या सुबह ही हो चुकी थी। इस शव पर भी कोई कपड़ा नहीं था। पोस्टमॉर्टम रिपोर्ट में पता चला कि रेप के बाद गला घोंटकर हत्या हुई। हत्यारे का फिर भी कोई पता नहीं चला। इसके बाद 29 दिसंबर को रामसनेहीघाट कोतवाली से 3 किमी दूर ठेठरहा गांव में शौच के लिए निकली महिला लापता हो गई थी। उसका शव 30 दिसंबर को खेत में न्यूड मिला। यह महिला भी 55 साल की थी और हत्या का पैटर्न सेम था। इस लाश के मिलते ही पुलिस हैरान रह गई। अब हत्या के पैटर्न को देखकर पुलिस को यकीन हो गया कि यह किसी एक ही व्यक्ति का काम है। वह बुजुर्ग और अधेड़ उम्र की महिलाओं को निशाना बना रहा है। इसके बाद गिरफ्तारी के लिए 6 टीमें लगाई गई। राजधानी लखनऊ के रैन बसेरों में भी इसका लोकेशन ट्रेस हुआ था। पुलिस ने बताया कि पकड़ा गया सीरियल किलर अमरेंद्र रावत असन्दरा के सड़वा भेलू गांव का रहनेवाला है। आरोपी के पिता ने तीन शादियां की हैं। मां की मौत के बाद उसे दोनों सौतेली मां से उपेक्षित रहना पड़ा था। वे उसे टॉर्चर करती थीं। इसी के चलते उसके मन में महिलाओं के प्रति नफरत की भावना पैदा हो गई थी।

अन्य समाचार