मुख्यपृष्ठनए समाचारबीपीएल कार्ड धारक चौकीदार के नाम 10 करोड़ की जमीन

बीपीएल कार्ड धारक चौकीदार के नाम 10 करोड़ की जमीन

माफिया अतीक की बेनामी जायदाद का हुआ पर्दाफाश, होगी जब्त

सामना संवाददाता / प्रयागराज

कुख्यात माफिया अतीक अहमद की एक और बेनामी संपत्ति का खुलासा हुआ है।आयकर विभाग की जांच में सामने आया है कि अतीक ने अपने एक अहम सहयोगी के चौकीदार के नाम पर लगभग 10 करोड़ रुपए की जमीन खरीदी थी। इनकम टैक्स विभाग को ये भी पता चला है कि जिस व्यक्ति के नाम पर ये जमीन खरीदी गई थी असल में वो एक बीपीएल कार्ड धारक है।
आयकर विभाग की बेनामी जांच शाखा ने मोहम्मद अशरफ के चौकीदार के रूप में काम करने वाले सूरज पाल के नाम पर खरीदी गई कई भूखंडों के लिए कुर्की का आदेश जारी किया है। बता दें कि मोहम्मद अशरफ माफिया अतीक अहमद का करीबी सहयोगी और दाहिना हाथ था। मोहम्मद अशरफ के चौकीदार के रूप में काम करने वाले सूरज पाल के नाम पर ये संपत्तियां अतीक ने ही खरीदी थी।
हैरान करने वाली बात ये है कि जिस सूरज पाल के नाम पर लाखों-करोड़ों की संपत्ति है, वो सूरज पाल बीपीएल (गरीबी रेखा से नीचे) कार्ड धारक है। उसके नाम पर प्रयागराज के अलग-अलग गांवों में 10 करोड़ रुपए से अधिक मूल्य के प्लॉट हैं।
आयकर अधिकारियों को जांच में यह भी पता चला है कि सूरज पाल ने पिछले कुछ हफ्तों में करोड़ों की लगभग 42 ऐसी जमीनों का निपटारा किया था। आयकर विभाग की जांच में यह भी सामने आया है कि सूरज पाल ने नियमित रूप से आईटी रिटर्न दाखिल किया और संपत्तियों के किराए से अपनी आय दिखाई।
इससे पहले भी जांच के दौरान पुलिस को पता चला था कि अतीक अहमद ने सदर तहसील के कटहुला गौसपुर गांव में एक गरीब आदमी के नाम से 23 हजार 447 वर्ग मीटर जमीन खरीदी थी। मौजूदा समय में अतीक की बेनामी प्रॉपर्टी की कीमत 12 करोड़ 42 लाख 69 हजार है।
बता दें कि कुख्यात अतीक अहमद और उसके भाई अशरफ की 15 अप्रैल को काल्विन अस्पताल के गेट पर तीन शूटरों ने ताबड़तोड़ गोलियां बरसाकर हत्या कर दी थी। इसके बाद से ही अतीक की पत्नी लेडी डॉन शाइस्ता परवीन और माफिया अशरफ की पत्नी जैनब फातिमा गायब हैं। पुलिस ने शाइस्ता परवीन को भगोड़ा घोषित कर दिया है। पुलिस को ऐसी जानकारी भी मिली थी कि शाइस्ता और जैनब अब बेनामी संपत्तियों को बेचने की कोशिश कर रही हैं, क्योंकि उन्हें पैसों की कमी हो गई है।
बीते दिनों राजधानी लखनऊ में अतीक के वकील विजय मिश्रा की गिरफ्तारी हुई थी।विजय मिश्रा की गिरफ्तारी के बाद बेनामी संपत्ति को लेकर कई बड़े खुलासे हुए थे।विजय मिश्रा लखनऊ के होटल हयात में अतीक की बेनामी प्रॉपर्टी की डील करने के लिए ठहरा हुआ था। पुलिस ने विजय मिश्रा से 12 करोड़ रुपए की प्रॉपर्टी के कागजात बरामद किया था। बहरहाल, होटल में विजय मिश्रा के साथ मौजूद अशरफ की पत्नी जैनब मौके से भाग निकली थी।
जानकारी के मुताबिक, राजधानी लखनऊ में जिस बेनामी संपत्ति की डील होनी थी उससे शाइस्ता और जैनब को 12 करोड़ रुपए मिलने थे। ये रुपए जैनब और शाइस्ता तक पहुंचाना वकील विजय मिश्रा का असल मकसद था। पुलिस को यह भी जानकारी मिली थी कि इस रुपए से शाइस्ता और जैनब विदेश भागने की फिराक में थीं।
बताते चलें कि बीते 2 साल में कुख्यात माफिया अतीक अहमद की अधिकतर अवैध संपत्तियां या तो कुर्क की जा चुकी हैं या फिर उस पर बुलडोजर चला है। प्रशासन की ओर से जारी आंकड़ों के मुताबिक, अतीक की लगभग 1169 करोड़ रुपए की संपत्ति पर या तो बुलडोजर चला है या फिर उसे जब्त कर लिया गया है। इसमें से 417 करोड़ की संपत्ति को प्रशासन ने अपने कब्जे में ले लिया है और लगभग 752 करोड़ की संपत्ति पर बुलडोजर चला है।

अन्य समाचार