मुख्यपृष्ठसमाचारपंजाब में डाॅक्टरों की बल्ले-बल्ले! 13 डाॅक्टर बने विधायक 

पंजाब में डाॅक्टरों की बल्ले-बल्ले! 13 डाॅक्टर बने विधायक 

पंजाब विधानसभा चुनाव में 13 डॉक्टरों के चुनाव जीतने के बाद राज्य के स्वास्थ्य ढांचे में बदलाव की उम्मीद जगी है। जहां एक ओर डाॅक्टरों की बल्ले-बल्ले हैं, वहीं क्या प्रदेश के हेल्थ सेक्टर में दिल्ली की तर्ज पर बदलाव होंगे?

पंजाब विधानसभा चुनाव में 13 डॉक्टरों के चुनाव जीतने के बाद राज्य के स्वास्थ्य ढांचे में बदलाव की संभावना है। आम आदमी पार्टी से चुने गए विधायकों में से 10 डॉक्टर हैं और यह पार्टी राज्य में अगली सरकार बनाने जा रही है। भगवंत मान 16 मार्च को सीएम के रूप में शपथ ग्रहण करने वाले हैं।

नेत्र शल्य चिकित्सक बलजीत कौर (46) ने कहा, ”मुझे लगता है कि जिस तरह से आम आदमी पार्टी (आप) ने दिल्ली में विभिन्न क्षेत्रों, विशेष रूप से स्वास्थ्य क्षेत्र में काम किया, इसने डॉक्टरों के बीच विश्वास जगाया है। डॉक्टर उत्साहित थे और पंजाब में भी यह (दिल्ली) सुधार चाहते थे।”

उन्होंने कहा, ”हमें लगा कि अगर हमारे पास यहां उचित बुनियादी ढांचा हो तो हम बेहतर सुविधा दे सकते हैं। मैं एक सरकारी नौकरी कर रही थी और वहां जो कमियां देखीं, उन्हें अब हम सुधारेंगे।” मलोट से आप उम्मीदवार कौर ने शिरोमणि अकाली दल के हरप्रीत सिंह को 40,261 मतों के अंतर से हराया था।

राज्य विधानसभा के लिए चुने गए 13 डॉक्टरों में से दो महिला चिकित्सक हैं, जिनमें मोगा से अमनदीप कौर अरोड़ा और मलोट से बलजीत कौर शामिल हैं। दोनों ने आप के टिकट पर जीत दर्ज की है। कांग्रेस, शिअद और बसपा से एक-एक डॉक्टर विधायक चुने गए हैं।

चिकित्सा क्षेत्र से संबंध रखने वाले आप विधायकों ने कहा कि दिल्ली में पार्टी की कार्यप्रणाली को देखते हुए पंजाब के स्वास्थ्य ढांचे में खासा सुधार होने वाला है. दिल्ली में आम आदमी पार्टी को मोहल्ला क्लीनिक जैसी विभिन्न सार्वजनिक स्वास्थ्य पहल शुरू करने का श्रेय दिया जाता है. आप से जुड़े डॉक्टर विधायकों ने कहा कि पंजाब के लोगों ने बदलाव के लिए वोट किया है और उन्हें बड़ी जिम्मेदारी सौंपी है, ऐसे में उनकी प्राथमिकता इस राज्य के स्वास्थ्य और शिक्षा क्षेत्रों को बदलाव लाना होगा.

चमकौर साहिब सीट से निवर्तमान मुख्यमंत्री और तीन बार के विधायक चरणजीत सिंह चन्नी को हराने वाले नेत्र शल्य चिकित्सक चरणजीत सिंह ने कहा कि पंजाब की स्वास्थ्य व्यवस्था को दुरुस्त करने की जरूरत होगी. उन्होंने कहा, ”हमें स्वास्थ्य संबंधी बुनियादी ढांचे को बढ़ाने की जरूरत है.”

अन्य समाचार