मुख्यपृष्ठनए समाचारआश्रम स्कूल में विषाक्त भोजन से १७० विद्यार्थी हुए बीमार! ...सभी अस्पताल...

आश्रम स्कूल में विषाक्त भोजन से १७० विद्यार्थी हुए बीमार! …सभी अस्पताल में भर्ती, हालत स्थिर

• २४ घंटे में रिपोर्ट देने का जिलाधिकारी ने दिया आदेश
सामना संवाददाता / मुंबई
सांगली जिले में जत तहसील के उमदी में स्थित समता आश्रम स्कूल में उस समय अफरा-तफरी मच गई, जब रविवार की रात विषाक्त भोजन खाने से एक के बाद एक १७० विद्यार्थी बीमार पड़ने लगे। इसके बाद आनन-फानन में सभी विद्यार्थियों को माडग्याल के ग्रामीण प्राथमिक उपचार केंद्र में भर्ती कराया गया। इस बीच कुछ की तबीयत तेजी से बिगड़ने के चलते उन्हें मिरज के सरकारी अस्पताल में रेफर किया गया। फिलहाल, सभी की हालत अब स्थिर है। इस बीच सांगली के जिलाधिकारी ने फूड प्वाइजनिंग के मामले को गंभीरता से लिया और २४ घंटे में रिपोर्ट देने का आदेश दिया है।
उमदी स्थित समता आश्रम स्कूल में २०० से अधिक विद्यार्थी अध्ययनरत हैं। इसमें ५ साल से लेकर १५ साल तक के विद्यार्थी शामिल हैं। रोजाना की तरह रविवार को आश्रम स्कूल की ओर से बच्चों को खाना दिया गया, लेकिन रविवार की रात दिए गए भोजन के बाद अचानक बच्चों को एक साथ उल्टी, जी मिचलाना और दस्त होने लगा। देखते ही देखते करीब १७० विद्यार्थियों को एक साथ यह तकलीफ होने लगी और उन्हें आश्रम स्कूल प्रशासन की ओर से उपलब्ध कराए गए वाहनों से रात में ही जत स्थित ग्रामीण प्राथमिक उपचार केंद्र में भर्ती कराया गया। हालांकि, इस स्वास्थ्य केंद्र में अपर्याप्त जगह होने और उनकी स्थिति गंभीर होने के कारण उन्हें मिरज और सांगली के सरकारी अस्पताल में इलाज के लिए भर्ती कराया गया। बच्चों को भोजन के साथ बासुंदी दी गई थी। उसी से फूड प्वाइजनिंग होने का प्राथमिक अनुमान व्यक्त किया गया है।
मामले की होगी जांच
इस मामले को जिला प्रशासन ने गंभीरता से लिया है। जिलाधिकारी ने समाज कल्याण विभाग को फूड प्वाइजनिंग मामले का सही कारण की जांच कर २४ घंटे के भीतर रिपोर्ट देने का निर्देश दिया है। आश्रम स्कूल में छात्रों को मिलनेवाले भोजन की गुणवत्ता को लेकर संदेह व्यक्त किया जा रहा है। भंडारा के येरली स्थित एक निजी आदिवासी आश्रम स्कूल के ४१ छात्रों को २५ अगस्त को फूड प्वाइजनिंग हो गई थी। इन छात्रों को भंडारा जिला सामान्य अस्पताल में भर्ती कराया गया था।

अन्य समाचार