मुख्यपृष्ठनए समाचारलखनऊ के जनेश्वर पार्क, जेपी सेंटर में २०० करोड़ का घोटाला! बिना...

लखनऊ के जनेश्वर पार्क, जेपी सेंटर में २०० करोड़ का घोटाला! बिना टेंडर के चहेतों को दिया ठेका … बबुआ के समय हुई करोड़ों की लूट!

  • स्थानीय निधि लेखा परीक्षा विभाग के ऑडिट में हुआ खुलासा

सामना संवाददाता / लखनऊ
लखनऊ में जनेश्वर मिश्र और जेपी इंटरनेशनल सेंटर समेत कई परियोजनाओं के निर्माण में बड़ा घपला सामने आया है। बिना टेंडर कराए ठेकेदारों, कंपनियों  को काम बांटने के साथ कुछ चहेतों को अधिक भुगतान, तो कुछ के लिए निर्धारित नियम ही बदल डाले गए। इसका खुलासा करते हुए स्थानीय निधि लेखा परीक्षा विभाग ने अपने ऑडिट में करीब २०० करोड़ रुपए के घपले की जानकारी दी है। बताया गया है कि गोमतीनगर विस्तार, कानपुर रोड की योजनाओं में भी गड़बड़ियां की गईं। वित्तीय वर्ष २०१५-१६ में हुए इन घपलों को लेकर ऑडिट विभाग ने प्राधिकरण अफसरों से रिकवरी की भी सिफारिश की है।
चार दिन पहले पहुंची रिपोर्ट
जनेश्वर मिश्र पार्क  वर्ष २०१३ से २०१७ के बीच बना था। शासन ने ऑडिट की जिम्मेदारी स्थानीय निधि लेखा परीक्षा विभाग को सौंपी थी। चार दिन पहले रिपोर्ट एलडीए पहुंची। इस आधार पर प्राधिकरण वित्त नियंत्रक ने जिम्मेदार अफसरों और अधिकारियों को पत्र जारी किया है। ऑडिट विभाग की रिपोर्ट के मुताबिक जिस वक्त ये गड़बड़ियां हुई हैं, तब प्राधिकरण उपाध्यक्ष सतेंद्र यादव थे।
जेपी सेंटर को अधिक भुगतान
ऑडिट के मुताबिक जेपी सेंटर के कंसल्टेंट को ३.५९ करोड़ रुपए अधिक फीस दी गई। सीजी सिटी में उसे २० हजार रुपए प्रति एकड़ फीस मिली, जबकि जेपी सेंटर में पूरी परियोजना का डेढ़ प्रतिशत फीस थमा दी गई। इससे एलडीए को ३.५३ करोड़ रुपए का नुकसान हुआ।
४.१७ करोड़ की बनाई सड़क
गोमतीनगर विस्तार-सीजी सिटी में एक बिल्डर ने अपनी टाउनशिप में सड़क बनाने की जिम्मेदारी एलडीए को दी थी। उसने प्राधिकरण में एक करोड़ रुपए जमा किया था। मगर एलडीए ने ४.१७ करोड़ की सड़क बना दी। इससे एलडीए को ३.१७ करोड़ का नुकसान हुआ।
दिल्ली के रेट पर कराई मरम्मत
एलडीए के तत्कालीन इंजीनियरों ने अलीगंज स्थित एलडीए कॉम्प्लेक्स में मरम्मत करवाकर टाइल्स लगाई थी। एलडीए इंजीनियरों ने न लोनिवि का रेट लिया और न जॉनसन, कजारिया, सोमानी, बेल कंपनी की टाइल्स का। इसके बजाय दिल्ली शेड्यूल रेट(डीएसआर) से ले लिया। यह देश में सर्वाधिक था। इससे एलडीए को २३.८७ लाख का नुकसान हुआ।

अन्य समाचार