मुख्यपृष्ठखबरेंएमबीएमटी सेवा में शामिल होंगी २५ ई-बसें... रुपए ८ करोड़ किए जाएंगे...

एमबीएमटी सेवा में शामिल होंगी २५ ई-बसें… रुपए ८ करोड़ किए जाएंगे खर्च

विनोद मिश्र / भायंदर। मीरा-भायंदर महानगरपालिका परिवहन सेवा (एमबीएमटी) में भाड़े पट्टा करार (वेटलीज) पर २५ ई-बसें समाविष्ट करने का निर्णय लिया गया है। इन ई-बसों की खरीदारी के लिए मनपा ने राज्य सरकार के १५वें वित्त आयोग से प्राप्त अनुदान में से ८ करोड़ रुपए खर्च करने की तैयारी की है, ऐसी जानकारी मनपा सूत्रों से प्राप्त हुई है।
वर्तमान में मनपा की परिवहन सेवा में कुल ७४ बसें चल रही हैं, जिनमें ५ वातानुकूलित, १० मिनी बस और ५९ सामान्य बसों का समावेश है। इनमें से करीब ७० बसें नियमित प्रवासी सेवा में संलग्न रहती हैं, वहीं ५ बसों को तकनीकी कारणों से रिजर्व रखा जाता है। प्रवासी सेवा में बसों की संख्या कम नहीं पड़े, इसलिए मनपा ने ५० बसें खरीदने का निर्णय लिया है, जिसमें २५ बस पारंपरिक र्इंधन पर तो २५ ई- बस का समावेश है। एमबीएमटी में प्रवासियों की बढ़ती संख्या को देखते हुए मनपा आयुक्त दिलीप ढोले और तत्कालीन परिवहन समिति ने केंद्र सरकार से कई बार पत्र व्यवहार के १०० ई-बस खरीदने के लिए अनुदान की मांग की थी, जिसे केंद्र सरकार ने स्वीकृति नहीं दी। इसके बाद राज्य सरकार के पर्यावरण विभाग से पत्र व्यवहार किया गया था।
इसी दौरान राज्य सरकार ने वर्ष २०२५ तक सभी शासकीय व प्रशासकीय वाहनों को ई-व्हीकल में परिवर्तित करने का आदेश जारी किया है। इसी के अनुरूप मनपा प्रशासन ने २५ ई-बस भाड़े पट्टा करार (वेटलीज) पर परिवहन सेवा में समाविष्ट करने का निर्णय लिया है। इन ई-बसों की खरीदारी के लिए राज्य सरकार के पर्यावरण विभाग ने मनपा को १५वें वित्त आयोग से पर्यावरणपूरक उपाय योजना के लिए २३ करोड़ रुपए का अनुदान मंजूर किया है।

मनपा ने राज्य सरकार के मेरी वसुंधरा अभियान अंतर्गत पर्यावरण का संतुलन बनाए रखने के उद्देश्य से ई-बस वेटलीज पर परिवहन सेवा में शामिल करने का निर्णय लिया है। इन बसों को ठेकेदारों के माध्यम से खरीदी कर जीसीसी तत्व में परिचालन करने का प्रस्ताव मंजूरी के लिए आगामी महासभा में सादर की जाएगी।
विजयकुमार म्हसाल
(अतिरिक्त आयुक्त, परिवहन विभाग)

अन्य समाचार