मुख्यपृष्ठनए समाचार२६/११ पार्ट-२: ताज की तर्ज पर हयात में तांडव! मुंबई को मिली...

२६/११ पार्ट-२: ताज की तर्ज पर हयात में तांडव! मुंबई को मिली आतंकी धमकी

  • सोमालिया में दिखाया ट्रेलर

कुमार नागमणि / मुंबई
२६/११ को मुंबई के ताज होटल में हुए आतंकी हमले की तर्ज पर कल मुंबई को एक बार फिर से दहलाने की धमकी पाकिस्तान से आई। उसी दौरान अफ्रीकी देश सोमालिया के मोगादिसू स्थित हयात होटल में आतंकियों ने ताज की तर्ज पर तांडव किया। कल देर रात मुंबई ट्रैफिक पुलिस कंट्रोल को एक पाकिस्तानी नंबर से २६/११ जैसे हमले की धमकी दी गई। इसे गंभीरता से लेते हुए मुंबई पुलिस और एटीएस के साथ केंद्रीय  जांच एजेंसियां भी हरकत में आ गईं । पाकिस्तानी नंबर कराची का है। इसकी पुष्टि पुलिस आयुक्त विवेक फणसलकर ने की है। दूसरी तरफ सोमालिया में आतंकियों ने २६/११ का ट्रेलर दिखा दिया। वहां मोगादिसू के हयात होटल में अल-कायदा से जुड़े आतंकी संगठन ‘अल-शबाब’ ने हमला करके १५ लागों को मार डाला और कई लोगों को बंधक बना लिया। खबर लिखे जाने तक सेना की आतंकियों से मुठभेड़ जारी थी।
मुंबई ट्रैफिक पुलिस के व्हॉट्सऐप पर पाकिस्तानी नंबर ९२३०२९८५८३५३ से धमकी आई, जिसमें मुबारकबाद देते हुए लिखा है कि ‘२६/११ की नई ताजा याद दिलाने के लिए हमला किया जानेवाला है। ६ लोग हैं जो भारत में इस काम को अंजाम देंगे। इसके लिए यूपी एटीएस जिम्मेदार है। वह चाहती है कि मुंबई में धमाके हों।’ मैसेज करनेवाले ने लिखा है कि लोकेशन ट्रेस करोगे तो वो भारत के बाहर का दिखाएगा और धमाका मुंबई में होगा। इस संबंध में वरली पुलिस स्टेशन में मामला दर्ज कर एक शख्स को हिरासत में लिया गया है। चोरी के मोबाइल से व्हॉट्सऐप हुआ हैक!

शिर्डी से आतंकी गिरफ्तार
शिर्डी से कल एक आतंकी पकड़ा गया है। गत १६ अगस्त को पंजाब में एक पुलिस गाड़ी में आईईडी लगाकर उसे उड़ाने के मामले में उसकी तलाश थी। पंजाब पुलिस और एटीएस ने मिलकर इस आतंकी को दबोचा है। इस आतंकी को मामले की जांच के लिए पंजाब पुलिस के हवाले कर दिया गया है। आतंकी गतिविधियों में लिप्त यह शख्स पंजाब का ही रहनेवाला है। पंजाब पुलिस और महाराष्ट्र एटीएस की यह कार्रवाई एक बड़ी कार्रवाई समझी जा रही है। दोनों राज्यों की पुलिस और एटीएस के बीच सहयोग और समन्वय की वजह से आतंकी को अरेस्ट करने में कामयाबी हासिल हुई है। बता दें कि पंजाब पुलिस में एक सब इंसपेक्टर को बम से उड़ाने की साजिश रची गई थी।
रात में ही लोगों से नजरें बचाकर गाड़ी के नीचे आईईडी लगा दिया गया था, लेकिन विस्फोटक के फटने से पहले ही सुबह गाड़ी धोनेवाले लड़के ने उसे देख लिया और इसकी जानकारी दे दी। अगर उस लड़के ने नहीं देखा होता तो गाड़ी में बैठते ही तेज धमाके के साथ सब इंस्पेक्टर के शरीर और गाड़ी के चीथड़े उड़ जाते। यह घटना अमृतसर के रणजीत एवेन्यू इलाके की है। वहीं सब इंस्पेक्टर दिलबाग सिंह का घर है। उनकी गाड़ी घर के बाहर ही खड़ी होती है। इसी बीच आधी रात को कोई इस बोलेरो गाड़ी के नीचे बम लगाकर चला गया। सुबह गाड़ी धोनेवाले लड़के ने यह देख लिया तो एक बड़ा हादसा होते-होते रह गया।
टेरर या आपसी रंजिश? पुलिस के बम स्क्वॉड, बम निरोधक दस्ते ने आईईडी को अपने कब्जे में ले लिया है। अब इस मामले की जांच में देखा जा रहा है कि जो हुआ उसके पीछे टेरर फैलाने की कोई साजिश थी या फिर आपसी रंजिश की वजह से इस घटना को अंजाम दिया गया?

अन्य समाचार