मुख्यपृष्ठनए समाचारयुवासेना की पहल से ३०० छात्रों को मिला न्याय! ...यूनिवर्सिटी की गलती...

युवासेना की पहल से ३०० छात्रों को मिला न्याय! …यूनिवर्सिटी की गलती से थे परेशान

 पास होने पर भी कर दिया गया था फेल
सामना संवाददाता / मुंबई
यूनिवर्सिटी की खामियों के चलते स्नातक और परास्नातक की परीक्षा में पास होने के बावजूद भी ३०० छात्रों को फेल कर दिया गया था। ऐसे में इन छात्रों का भविष्य अंधकरामय हो गया था। साथ ही उनके चेहरों पर मायूसी छा गई थी। हालांकि, इस मामले में संज्ञान लेते हुए युवासेना ने छात्रों को न्याय दिलाने की पहल शुरू कर दी। युवासेना की यह मेहनत रंग लाई और अपनी गलतियां मानते हुए यूनिवर्सिटी प्रबंधन ने सभी ३०० छात्रों को परीक्षा में उतीर्ण कर दिया है।
उल्लेखनीय है कि मुंबई यूनिवर्सिटी ने हाल ही में बीकॉम, बीएससी, बीए, एमकॉम, एमए संकायों में पढ़नेवाले छात्रों द्वारा दी गई परीक्षाओं के परिणामों की घोषणा की थी। इनमें से कई छात्रों के पास होने के बावजूद उन्हें अनुतीर्ण कर दिया गया था। कई छात्रों के रिजल्ट ही नहीं घोषित किए गए थे। छात्रों को इसकी जानकारी होने के बाद छात्रों ने इस चूक को संबंधित कॉलेजों और यूनिवर्सिटी के संज्ञान में लाने के लिए हर मुमकिन कोशिश की, लेकिन उन्हें उनकी ओर से किसी तरह की कोई मदद नहीं मिल रही थी। हर तरफ से निराश होने के बाद छात्रों के अभिभावकों ने बिना देर किए युवासेना से मदद की गुहार लगाई। इस बारे में जब युवासेना की ओर से जानकारी निकाली गई तो पता चला कि कई कॉलेजों ने गलत रिजल्ट जारी किए थे, हाजिर होने के बावजूद उन्हें गैरहाजिर दिखाया गया।

कुलपति के सामने रखी गई छात्रों की समस्या
इस संबंध में युवासेना सचिव वरुण सरदेसाई के मार्गदर्शन में मुंबई यूनिवर्सिटी के कुलपति रवींद्र कुलकर्णी से एक प्रतिनिधिमंडल ने मुलाकात की और छात्रों की समस्याएं रखीं। इस दौरान युवासेना के आशिष हातणकर, सुनील सोनकर, जितेंद्र भाटकर, एड. अर्णव राणे, मितेश लोटलीकर, सचिन राऊत, आदित्य यादव और मुंबई समन्वयक किसन सावंत आदि पदाधिकारी उपस्थित थे।

अन्य समाचार

लालमलाल!