मुख्यपृष्ठनए समाचारलाखों रुपए का स्क्रैप बेचने के नाम पर धोखाधड़ी करने वाले 4...

लाखों रुपए का स्क्रैप बेचने के नाम पर धोखाधड़ी करने वाले 4 आरोपी गिरफ्तार

राधेश्याम सिंह / वसई

एल्युमीनियम स्क्रैप का माल बेचने और गलत नाम बताकर धोखाधड़ी करने वाले गिरोह को मांडवी पुलिस स्टेशन की टीम ने करवाई की है। उनसे कुल 20,02,332 रुपए कीमती मुद्देमाल व नकदी बरामद किया है। यह कार्रवाई डीसीपी सुहास बावचे व एसीपी रामचंद्र देशमुख के मार्गदर्शन में मांडवी थाने के सीनियर पीआई प्रफुल्ल वाघ, अशोक कांबले (अपराध) के नेतृत्व में पीएसआई चंद्रकांत पाटील की टीम ने की है।
पुलिस ने बताया कि जगदीश सरदारमल सुतार ने 28 अक्टूबर 2023 को मांडवी पुलिस स्टेशन में शिकायत दर्ज कराई थी। मांडवी पुलिस स्टेशन के वरिष्ठ पुलिस निरीक्षक, प्रफुल्ल वाघ ने बताया कि आरोपी के खिलाफ कलम 420, 34 के तहत मुकदमा दर्ज किया था। शिकायतकर्ता एल्युमीनियम स्क्रैप का व्यापारी है, वह भारत के कई राज्यों से बिचौलियों के माध्यम से स्क्रैप खरीदते हैं। आरोपी ने शिकायतकर्ता से संपर्क किया और बताया कि मेढे गांव, ता. वसई, जिला-पालघर में बड़ी मात्रा में स्क्रैप उपलब्ध है। शिकायतकर्ता को स्क्रैप लेने के लिए बुलाया गया था।
कंपनी सागर मेटल और जीएसटी नंबर के बारे में जानकारी देकर व्यापारियों (शिकायतकर्ता) का विश्वास हासिल किया। आरोपियों ने स्क्रैप डीलर और एजेंट होने का नाटक किया और डीलर को मेढे में बुलाने और 27, 87, 236 रुपए मूल्य का 15 टन एल्यूमीनियम स्क्रैप खरीदने का फैसला किया। इस स्क्रैप सामग्री को मेढे स्थित गुरुकृपा रियलकॉन कंपनी से खरीदने का निर्णय लिया गया। 157 रुपए प्रति किलो की दर से 27,87,236 रुपए का माल खरीदा गया तथा व्यापारी को ट्रक बुलाकर माल लदवाया गया। माल की डिलिवरी से पहले व्यापारी से जीएसटी समेत उक्त सारी रकम सागर मेटल के नाम पर ट्रांसफर करा ली गई।
खाते में पैसा जमा होते ही सामान लदा ट्रक सौंप दिया जाएगा व दुकानदार का पैसा भी दिया जाएगा, इतना कहकर आरोपी अपने साथ स्विफ्ट कार में बैठकर भाग गए। आरोपियों ने तुरंत उनके खाते में मौजूद पैसे दूसरे खातों में ट्रांसफर कर दिए और अपना मोबाइल नंबर भी ब्लॉक कर दिया। जब फिरयादी को पता चला कि उसके साथ धोखाधड़ी हुई है तो शिकायतकर्ता पुलिस स्टेशन में जाकर शिकायत दर्ज करवाया। तकनीकी जांच के दौरान पता चला कि आरोपी कल्याण शिलफाटा में है, क्राइम ब्रांच कल्याण टीम की मदद से 3 आरोपियों को कार सहित हिरासत में लेकर उनसे पूछताछ के बाद चौथे आरोपी का नाम सामने आया। चौथा आरोपी मुंबई वाराणसी ट्रेन से उत्तर प्रदेश जा रहा था। ट्रेन के समय और तीनों द्वारा तय की गई दूरी का विश्लेषण करने के बाद जीआरपीएफ की मदद से आरोपी को नासिक रोड रेलवे स्टेशन पर चलती ट्रेन से हिरासत में लिया गया।
अपराध में शामिल आरोपियों से पूछताछ के बाद पता चला कि उन्होंने कलंबोली, खारघर, तलोजा, धुले, दिल्ली में भी इसी तरह के अपराध किए थे। ये आरोपी 2017 से एक गिरोह में इसी तरह की वारदातों को अंजाम दे रहा है। ये सभी आरोपी हर बार अपना नाम, मोबाइल नंबर और मोबाइल फोन बदल लेते थे। आरोपियों के पास से 15 मोबाइल, 2 स्टांप, 1 स्टांप पैड, 4 मोबाइल बैटरी, विभिन्न बैंकों के 10 एटीएम कार्ड, 3 चेक बुक, 1 मोबाइल चार्जर, 4 सिम कार्ड, घड़ियां, आधार कार्ड, पैन कार्ड हैं। साथ ही आरोपी के कब्जे से लूटी गई कार और शिकायतकर्ता की धोखाधड़ी की गई स्क्रैप कुल मिलाकर 20,02,332 रुपए कीमती माल व नकदी आदि जब्त कर लिया है। वहीं पुलिस ने जनता से आग्रह किया है कि यदि इस अपराध में गिरफ्तार किए गए आरोपियों ने इस तरह के अपराध किए हैं तो वह आरोपियों के खिलाफ मांडवी पुलिस स्टेशन, मीरा-भायंदर, वसई- विरार पुलिस स्टेशन से संपर्क करें।

अन्य समाचार