मुख्यपृष्ठनए समाचार७ जलाशय पार! जलापूर्ति करनेवाली सभी झीलें भरीं

७ जलाशय पार! जलापूर्ति करनेवाली सभी झीलें भरीं

सामना संवाददाता / मुंबई
मुंबई को जलापूर्ति करनेवाले सात जलाशयों में १४,०७,२६३ एमएलडी पानी एकत्र हो गया है। जलाशयों में जमा हुए पर्याप्त पानी से मुंबई में अगले साल तक जलापूर्ति की जा सकेगी। दिलचस्प बात यह है कि इन जलाशयों में जल भंडारण पिछले तीन वर्षों में सबसे अधिक है, जो मुंबई के लिए अच्छी खबर है।
उल्लेखनीय है कि मुंबई को सात जलाशयों अपर वैतरणा, मोडकसागर, तानसा, मध्य वैतरणा, भातसा, विहार और तुलसी से प्रतिदिन ३,८५० एमएलडी पानी की आपूर्ति की जाती है। मई-जून में तालाबों में उपलब्ध जल भंडारण को देखकर मानसून के शुरुआती दिनों में जलापूर्ति की योजना बनाई जाती है। इस साल पूरे जून में बारिश न होने के कारण कुल जल संग्रहण ११ प्रतिशत तक गिर गया। इसके चलते २७ जून से मुंबई में १० प्रतिशत की जलापूर्ति की कटौती शुरू हुई। हालांकि जुलाई की शुरुआत से ही भारी बारिश के कारण जलाशयों में २५ प्रतिशत पानी जमा होने के बाद १२ दिनों के भीतर पानी की कटौती को वापस ले लिया गया। इस बीच जुलाई के अंत में जलाशय क्षेत्रों में फिर से बारिश थमने के कारण पानी का भंडारण नहीं बढ़ रहा था। हालांकि अगस्त के शुरुआती दिनों से ही फिर से भारी बारिश हो रही है। ऐसे में मुंबई में एक साल का पानी जमा हो गया है।
तीन साल में सबसे ज्यादा भंडारण
मुंबई को पानी आपूर्ति करने वाले सातों जलाशयों में २३ अगस्त तक १३,५६,७३२ एमएलडी यानी ९३.७३ फीसदी पानी जमा हो गया था। इसी तरह बीते साल इस अवधि में १२,६४,९९८ एमएलडी यानी ८७.४० प्रतिशत पानी जमा हुआ था। वहीं इस साल मंगलवार तक १४,०७,२६३ एमएलडी यानी ९७.२३ फीसदी पानी जमा हो गया है। मुंबई के लिए ३,८५० एमएलडी के दैनिक जलापूर्ति को देखते हुए, यह जल संग्रहण अगले
३६५ से अधिक दिनों के लिए पर्याप्त है।

अन्य समाचार