मुख्यपृष्ठनए समाचार‘ईडी' सरकार में ७५ प्रतिशत मंत्रियों पर हैं आपराधिक मामले दर्ज :...

‘ईडी’ सरकार में ७५ प्रतिशत मंत्रियों पर हैं आपराधिक मामले दर्ज : मुख्यमंत्री अव्वल!

सामना संवाददाता / मुंबई
शिंदे गुट की बगावत के बाद शिंदे-फडणवीस यानी ‘ईडी’ सरकार बनने के बाद एक चौंकानेवाली बात सामने आई है। ‘ईडी’ सरकार के मंत्रिमंडल में तकरीबन ७५ प्रतिशत मंत्रियों पर आपराधिक मामले दर्ज हैं। एसोसिएशन फॉर डेमोक्रेटिक रिफॉम्र्स (एडीआर) के अनुसार महाराष्ट्र के ७५ प्रतिशत मंत्रियों ने स्वयं अपने ऊपर दर्ज आपराधिक मामलों का खुलासा किया है।
राज्य मंत्रिमंडल विस्तार के बाद एसोसिएशन फॉर डेमोव्रेâटिक रिफॉम्र्स और महाराष्ट्र इलेक्शन वॉच ने २०१९ के विधानसभा चुनाव के दौरान सभी मंत्रियों द्वारा स्वयं प्रस्तुत किए गए प्रतिज्ञा पत्र का विश्लेषण किया। उसमें यह बात सामने आई है। विश्लेषण के अनुसार कुल २० मंत्रियों में से १५ मंत्री यानी ७५ प्रतिशत मंत्रियों ने स्वयं फौजदारी मामले को उजागर किया है। १३ यानी ६५ प्रतिशत मंत्रियों ने खुद गंभीर अपराध दाखिल होने की बात बताई है, इनमें से सबसे अधिक १८ मामले मुख्यमंत्री एकनाथ शिंदे पर हैं तो चार गंभीर मामले उप मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस के खिलाफ दर्ज हैं। इस रिपोर्ट के अनुसार सभी मंत्री करोड़पति हैं और उनकी संपत्ति का मूल्य तकरीबन ४७.४५ करोड़ है। सर्वाधिक संपत्ति मलबार हिल निर्वाचन क्षेत्र के विधायक मंगल प्रभात लोढ़ा के पास ४४१.६५ करोड़ रुपए की है। सबसे कम संपत्ति पैठन निर्वाचन क्षेत्र के विधायक व मंत्री संदीपान भुमरे की है। ४० प्रतिशत मंत्रियों ने अपनी योग्यता १०वीं से १२वीं तक बताई है।

अन्य समाचार