मुख्यपृष्ठनए समाचारकश्मीर में 36 घंटों में 9 आतंकी ढेर... राजौरी में मुठभेड़ जारी

कश्मीर में 36 घंटों में 9 आतंकी ढेर… राजौरी में मुठभेड़ जारी

– उड़ी में एलओसी पर चार और कुलगाम में 5 आतंकी ढेर

सुरेश एस डुग्गर / जम्मू

कश्मीर में पिछले 36 घंटों में 9 आतंकी ढेर किए जा चुके हैं। इनमें से 4 को उड़ी में एलओसी पार करते हुए मार डाला गया तो पांच को आज सुबह कुलगाम में ढेर कर दिया गया। इस बीच जम्मू मंडल के राजौरी जिले के बुद्धल इलाके में भी समाचार लिखे जाने तक मुठभेड़ जारी रही।
कुलगाम जिले में सुरक्षाबलों और आतंकियों के बीच मुठभेड़ शुक्रवार दूसरे दिन भी जारी रही। सूत्रों के अनुसार, मुठभेड़ स्थल पर पांच आतंकियों को मार गिराया गया है। मारे गए आतंकी लश्कर-ए-तैयबा से जुड़े हुए बताए जा रहे हैं। इलाके में सुरक्षाबलों का ऑप्रेशन अभी चल रहा है। आईजीपी कश्मीर विके बिरदी ने कहा कि सुरक्षा बलों को कुलगाम में कुछ आतंकवादियों की आवाजाही के बारे में एक खुफिया इनपुट मिला था। तलाशी अभियान के दौरान, एक आतंकवादी ने एक घर से गोलीबारी की, जिसके बाद मुठभेड़ शुरू हो गई। लश्कर-ए-तैयबा के पांच आतंकवादी मारे गए हैं। बाद में सेना के जवानों ने जिस घर में आतंकी छिपे थे, उसे राकेट लान्चर से उड़ा दिया।
आतंकी पांच थे और उन्होंने दो अलग-अलग मकानों में ठिकाना बना रखा था। वीरवार को आधी रात के बाद सुरक्षाबलों ने अपनी तरफ से फायरिंग बंद कर, आतंकियों के ठिकाने की घेराबंदी सख्त कर दी। दोनों मकानों के चारों तरफ कटीला तार भी लगा दिया गया, ताकि आतंकी अंधेरे का लाभ उठाकर भाग न सकें। रातभर आतंकी रुक-रुक कर फायरिंग करते रहे। सुरक्षाबलों को सूचना मिली थी कि कुलगाम जिले के समनू गांव में कुछ आतंकी किसी बड़ी घटना को अंजाम देने के लिए इकट्ठा हुए हैं। इसके बाद पुलिस, सेना की 34 राष्ट्रीय राइफल्स और सीआरपीएफ की संयुक्त टीम ने वीरवार दोपहर आतंकियों की मौजूदगी वाले गांव की घेराबंदी कर तलाशी अभियान शुरू किया। शाम करीब चार बजे छिपे हुए आतंकियों ने सुरक्षाबलों पर फायरिंग कर दी। सुरक्षाबलों की जवाबी फायरिंग के बाद से रुक-रुक कर गोलीबारी हुई।
इस घेराबंदी में लश्कर-ए-तैयबा के पांच आतंकी छिपे बैठे थे, जिसमें से सभी को आज जवानों ने नेस्तनाबूत कर दिया है। सुरक्षाबलों ने पहले लश्कर के तीन आतंकी मारे और कुछ ही देर बाद फायरिंग कर रहे दो और आतंकी भी ढेर कर दिए गए हैं। कुलगाम में वीरवार को शुरू हुई मुठभेड़ श़ुक्रवार को पांच आतंकियों के मारे जाने के साथ समाप्त हो गई। लगभग 20 घंटे तक जारी इस मुठभेड़ में आतंकी ठिकाना बना एक मकान पूरी तरह से और एक अन्य आंशिक तौर पर क्षतिग्रस्त हो गया। मारे गए आतंकियों का संबंध लश्कर ए तैयबा का हिट स्क्वाड कहे जाने वाले द रजिस्टेंस फ्रंट टीआरएफ से था।
इस बीच उत्तरी कश्मीर के बारामुल्ला जिले के उड़ी सेक्टर में एलओसी के पास मुठभेड़ में आतंकी लांच कमांडर बशीर अहमद मलिक समेत दो आतंकी कल मारे गए थे। घुसपैठ कर रहे आतंकियों के पास से हथियार और पाकिस्तानी नकदी बरामद की गई है। सेना के अधिकारियों ने यह जानकारी देते हुए राहत की सांस लेने का दावा तो किया पर सर्दियों के बावजूद घुसपैठ में कोई कमी नहीं आने पर चिंता जरूर प्रकट की थी।
कल मारे गए आतंकियों की पहचान आतंकी बशीर अहमद मलिक और अहमद गनी शेख के तौर पर हुई है। दोनों घुसपैठिए पाकिस्तान अधिकृत जम्मू-कश्मीर के रहने वाले थे। बताया जा रहा है कि आतंकी बशीर लॉंच कमांडर था। बशीर एलओसी के पार से कई बार आतंकवादियों की घुसपैठ करा चुका था। इस बार वो खुद इस पार आने की कोशिश में ढेर कर दिया गया।

अन्य समाचार