मुख्यपृष्ठनए समाचारअंधेर नगरी, चौपट राजा! ... सचेत करनेवाले पर ही कसा शिकंजा!

अंधेर नगरी, चौपट राजा! … सचेत करनेवाले पर ही कसा शिकंजा!

• टोइंग चालक के पास नहीं था लाइसेंस
• वीडियो वायरल करनेवाले पर मामला दज
सामना संवाददाता / ठाणे
राज्य में कानून-व्यवस्था चाक-चौबंद होने का दावा करने वाले महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री एकनाथ शिंदे के जिले ठाणे में ‘अंधेर नगरी चौपट राजा’ का उदाहरण सामने आया है। ठाणे स्थित उपवन में टोइंग वाहन चालक के पास लाइसेंस की प्रति नहीं होने का वीडियो बनाकर सोशल मीडिया पर वायरल करनेवाले के खिलाफ मामला दर्ज कर लिया गया है। एक सतर्क नागरिक के रूप में टोइंग वाहन चालक की लापरवाही का सबूत पेश करनेवाले के खिलाफ ही मामला दर्ज किए जाने से ठाणेकर सकते में हैं और यह क्या चल रहा है? ऐसा सवाल ठाणेकर कर रहे हैं।
दो के खिलाफ मामला दर्ज
इस मामले में चेतन चिटणीस और ऋतु टेलर के खिलाफ आरोप लगाया गया है कि उन्होंने सरकारी काम में बाधा डाली। टोइंग वाहन पर काम कर रहे कर्मचारियों को मारने की धमकी दी। टोइंग वाहन पर मौजूद वाहनों को छोड़ने के लिए मजबूर किया। टोइंग वाहन चालक ने वाहन लाइसेंस की फोटोकॉपी दी थी फिर भी उन्होंने वीडियो बनाकर वायरल किया था, जिसके बाद वर्तक नगर पुलिस स्टेशन में चिटणीस और टेलर के खिलाफ मामला दर्ज किया गया हैर्।

ट्रैफिक विभाग ही कर रहा नियमों का उल्लंघन  
बता दें कि ठाणे में सड़कों के किनारे अवैध रूप से पार्क किए गए वाहन ट्रैफिक जाम की समस्या पैदा करते हैं। ट्रैफिक पुलिस ऐसे वाहनों के खिलाफ टोइंग वाहन के जरिए कार्रवाई करती है। इसी कड़ी में उपवन इलाके में टोइंग वाहन चला रहे ड्राइवर के पास वाहन का लाइसेंस नहीं था। इसका बाकायदा वीडियो फुटेज बनाकर सोशल मीडिया पर प्रसारित किया गया था। वीडियो बनाने वाले चेतन चिटणीस नाम के व्यक्ति ने टोइंग वाहन चालक से वाहन लाइसेंस और टोइंग वाहन के दस्तावेजों की मांग की थी, लेकिन संबंधित चालक के पास लाइसेंस नहीं था। वीडियो सोमवार को पूरे दिन एक्स (ट्विटर), फेसबुक, इंस्टाग्राम पर वायरल होता रहा।

अन्य समाचार