मुख्यपृष्ठसमाचारगए से जिंदा लौटी राख!... दिल्ली की झोपड़ी में जल गया उन्नाव...

गए से जिंदा लौटी राख!… दिल्ली की झोपड़ी में जल गया उन्नाव का एक परिवार

सामना संवाददाता / उन्नाव । दिल्ली में झोपड़ी में लगी आग ने उन्नाव के सफीपुर के रहनेवाले एक परिवार के ५ लोगों को राख में बदल दिया। पूरे परिवार की मौत ने पूरे गांव को रुला दिया। बता दें कि सभी लोग दिल्ली में गोकुलपुरी में रहते थे। परिवार की झोपड़ी में आग भले ही दिल्ली में लगी हो, लेकिन उसकी तपन इनके गांव फाजिलनगर तक पहुंची हैं। जब से गांव के लोगों को पता चला है कि उनके गांव के ५ लोगों की दिल्ली में जलकर मौत हुई है, कोई भी अपने घर नहीं गया। किसी ने भी खाना नहीं खाया।
शोक में डूबा बबलू का गांव
शनिवार शाम ५ बजे से सभी लोग बबलू के घर के बाहर बैठे हैं। बबलू के घर के बाहर ताला पड़ा हुआ है। कुछ बर्तन भी बाहर बिखरे पड़े हुए हैं। गांव के लोग आंख में आंसू लेकर पुरानी बातों को याद करते हुए कह रहे हैं कि अगर हादसा न हुआ होता, तो आज पूरा परिवार हमारे साथ होता। आज बबलू का परिवार गांव आने वाला था।
आग ने खुशियों पर फेरा पानी
बबूल की भाभी रेखा ने बताया कि उसकी ननद संगीता से बात हुई थी। संगीता ने बताया कि होली को लेकर घर में खरीदारी चल रही है। इस बार होली गांव में करने से सब लोग बहुत खुश थे। छोटे भाई-बहन, बच्चों के लिए कपड़े सामान आदि चीजों की खरीददारी हो रही थी। हमें नहीं पता था कि ये खुशियां बस कुछ दिन की हैं। हमारी खुशियों पर इस आग ने पानी फेर दिया।
बेहद गरीब था परिवार
गांव के लोगों की मानें तो यहां कई परिवार बहुत गरीब हैं, जिसमें एक ये परिवार भी शामिल था। लॉकडाउन के बाद कोई काम नहीं था। यहां परिवार का पालन पोषण भी ठीक से नहीं हो पा रहा था। इसलिए सभी लोग दिल्ली चले गए थे। तब किसी को नहीं पता था कि यह परिवार अब कभी वापस नहीं लौटेगा।

अन्य समाचार