एक कोशिश

 

बड़ी बड़ी चट्टानों को
पार किया दो छोटे-छोटे कदमों ने
वजह एक छोटी सी कोशिश ही तो है।
प़ढ़ लिखकर बना वो महाज्ञानी
ज्ञान पाकर भी न बना अभिमानी
नम्र बने रहना, झुके रहना
क्या है? एक कोशिश ही तो है।
बड़ी–बड़ी बातों के पीछे
छोटी सी सच्चाई है छुपी
इस सच्चाई को कबूलना
हां- एक कोशिश ही तो है।

ऊंची उड़ानें सौ भरी उसने
बड़ी ऊंचाइयों पर पहुंचा
कदमों को जमीन से हिलने न दिया
जमीन से यूं जुड़े रहना क्या है?
एक छोटी सी कोशिश ही तो है।
नैंसी कौर,दिल्ली

अन्य समाचार