मुख्यपृष्ठविश्वचीन से किया किनारा .... अमेरिका से मांगा सहारा!

चीन से किया किनारा …. अमेरिका से मांगा सहारा!

• बाइडेन के आगे गिड़गिड़ाया शहबाज
• कहा- मदद मिले तो सीपैक को रद्द कर देंगे
एजेंसी / इस्लामाबाद । पाकिस्तान से इमरान खान की विदाई के बाद से ही चीन की दोस्ती खटाई में पड़ गई है। नई शहबाज शरीफ सरकार ने चीन से किनारा करना शुरू कर दिया है। इसका पहला संकेत पाक सरकार ने चीन-पाकिस्तान आर्थिक गलियारा (सीपैक) का प्राधिकरण भंग करके दिया है। २०१३ में शुरू किए गए ५ लाख करोड़ रुपए के सीपैक के तहत चीन द्वारा पाकिस्तान में आधारभूत ढांचे का विकास किया जाना था। जानकारी के अनुसार लिंकन पाकिस्तान के सबसे बड़े प्रांत बलूचिस्तान में इसका विरोध बढ़ रहा है। इस बीच बलूच लिबरेशन आर्मी ने सीपैक में कार्यरत चीनी कर्मचारियों पर हमले भी तेज कर दिए हैं। मंगलवार को ही एक बलूच महिला फिदायीन ने ब्लास्ट कर तीन चीनी कर्मियों को मौत के घाट उतार दिया था। इसके बाद शहबाज सरकार ने सीपैक प्राधिकरण को भंग करने की प्रक्रिया भी शुरू कर दी है। इसका कारण कई परियोजनाओं में देरी बताया जा रहा है। एक रिपोर्ट के अनुसार पाकिस्तान चीन के साथ सीपैक की महत्वाकांक्षी डील को रद्द करने को भी तैयार है। लेकिन उसकी शर्त है कि यदि अमेरिका इसी प्रकार का कोई मेगा प्रोजेक्ट पाकिस्तान के लिए लाता है तो वो ऐसा कर सकते हैं।

पाक झेल रहा है बिजली संकट
पाकिस्तान में ऊर्जा संकट है। इन दिनों भीषण गर्मी में भी पाकिस्तान के २८ से ज्यादा शहरों में १२ घंटे का पावर कट है। इसके अलावा चीन के झिनझियांग से ग्वादर तक मेन लाइन रेलवे प्रोजेक्ट का काम शुरू किया जाना था। लगभग ५५ हजार करोड़ रुपए की इस परियोजना को पाक का सबसे बड़ा रेल प्रोजेक्ट बताया जा रहा था। लेकिन लगभग ५ साल तक ये फिजिबिलिटी रिपोर्ट के कारण अटका रहा। सूत्रों के अनुसार अब पाक सरकार ने इसे बंद करने का निर्णय किया है।

अन्य समाचार