मुख्यपृष्ठनए समाचारआदित्य ठाकरे की चेतावनी ...`गद्दारों' को नहीं चढ़ने देंगे विधानसभा की सीढ़ियां!

आदित्य ठाकरे की चेतावनी …`गद्दारों’ को नहीं चढ़ने देंगे विधानसभा की सीढ़ियां!

सामना संवाददाता / ठाणे
शिवसेनापक्षप्रमुख उद्धव ठाकरे के कठिन समय में उनकी पीठ में छुरा भोंकनेवाले एकनाथ शिंदे और ४० घातियों को फिर विधानसभा की सीढ़ियां चढ़ने नहीं देंगे, ऐसी चेतावनी शिवसेना नेता व विधायक आदित्य ठाकरे ने कल दी। घातियों द्वारा किया गया यह कृत्य असंवैधानिक है और राज्य की खोके सरकार भी असंवैधानिक है। गद्दार चले गए तो चले गए, हम शिवसेना का पुनर्निर्माण करेंगे, ऐसा संकल्प भी आदित्य ठाकरे ने जताया। न्यूज चैनल एबीपी माझा की ओर से आयोजित कार्यक्रम ‘माझा महाराष्ट्र माझा विजन’ में आदित्य ठाकरे ने राज्य के प्रमुख नेताओं के साथ हिस्सा लिया। अनुभवी पत्रकार राजीव खांडेकर द्वारा पूछे गए सवालों का आदित्य ठाकरे ने बेहद आत्मविश्वास और उतने ही चुटीले अंदाज में जवाब दिया। आदित्य ठाकरे ने कहा कि जिसने शिवसेना को धोखा दिया और खुद को बेच दिया वह कल भाजपा के भी नहीं होंगे। यह घाती गुट पद पाने के लिए लोगों के पीछे भी जाएगा, ऐसा भी आदित्य ठाकरे ने कहा।
लोकतंत्र की व्याख्या के अनुसार, राज्य का कारोबार चलना चाहिए, यही हमारा विजन है, ऐसा भी आदित्य ठाकरे ने कहा। वर्तमान में महाराष्ट्र को किस प्रकार चलाना है, उसकी नोट दिल्ली से आती है और महाराष्ट्र का कारोबार गुजरात के लिए चल रहा है, ऐसी टिप्पणी भी आदित्य ठाकरे ने की। पिछले दो सालों में महाराष्ट्र की राजनीति अस्त-व्यस्त हो गई है। वर्ष २०२२ में शिवसेना टूटी, २०२३ में राष्ट्रवादी कांग्रेस और एक परिवार टूटा, अब २०२४ में कांग्रेस को तोड़ने की तैयारी है, ऐसा बोलकर उन्होंने भाजपा पर भी हमला बोला।
घातियो की कहानियां बताने के लिए नेटफ्लिक्स के ४० एपिसोड बनाने होंगे। क्या महाविकास आघाड़ी सरकार में मंत्री पद स्वीकार कर आदित्य ठाकरे ने की गलती? उनसे यह पूछा गया। इस बारे में बात करते हुए आदित्य ठाकरे ने कहा कि घातियों के बाद सामान्य शिवसैनिक शिवसेना से अलग नहीं हुए, बल्कि शिवसैनिक और सामान्य नागरिक हमारे करीब आए। उन्होंने हमारी सरकार का काम देखा। अगर मैं हर घाती की कहानी बता दूं, चाहे मैं मंत्री हूं या नहीं, चाहे मैं राजनीति में हूं या नहीं, तो नेटफ्लिक्स के ४० एपिसोड बनेंगे और हर कोई हंसेगा, ऐसा भी आदित्य ठाकरे ने कहा।
प्रदूषणकारी उद्योग महाराष्ट्र को, रोजगार देनेवाले उद्योग गुजरात को
इस दौरान महाराष्ट्र के उद्योगों को बाहर ले जाने की भाजपा की नीति पर भी आदित्य ठाकरे ने कटाक्ष किया। उन्होंने कहा कि महाविकास आघाड़ीr सरकार के कार्यकाल में कई उद्योग महाराष्ट्र में आ रहे थे। लेकिन भाजपा ने उसे बर्बाद कर दिया। जैतापुर, नाणार रिफाइनरी जैसे प्रदूषणकारी प्रकल्प महाराष्ट्र के माथे पर मारने का प्रयास भाजपा ने किया और दूसरी तरफ पर्यावरण को क्षति पहुंचाए बिना रोजगार पैदा करनेवाले सेमीकंडक्टर, एयरबस, बल्क ड्रग पार्क, मेडिकल डिवाइस पार्क जैसे उद्योग ईगो इश्यू करके गुजरात में भेजे गए। इस पर आदित्य ठाकरे ने सभी का ध्यान केंद्रित किया।
गद्दार सरकार में कानून व्यवस्था ताक पर
महाविकास आघाड़ी के कार्यकाल में राज्य में शांति थी, एक भी दंगे नहीं हुए। आंदोलनकारियों को न्याय मिलता था। गद्दारों की सरकार में राज्य की कानून व्यवस्था बिगड़ चुकी है और विधायक धक्का-मुक्की कर रहे हैं। गणपति बाप्पा की शोभायात्रा में पुलिस थाने में जाकर गोलीबारी करते हैं, जबकि भाजपा वाले उनका समर्थन करते हैं। उसकी सीसीटीवी फुटेज कहीं नहीं आती है। लेकिन भाजपा के विधायक गोलीबारी करते हैं, तब पांच मिनट में ही सीसीटीवी फुटेज बाहर आ जाता है। यह कहते हुए आदित्य ठाकरे ने राज्य में बिगड़ी कानून व्यवस्था पर अंगुली उठाई।
४८ सीटों में ईडी और सीबीआई को कितनी-कितनी
महाविकास आघाड़ी के सीट बंटवारे के फॉर्मूले पर क्या? इस दौरान इस तरह के सवाल आदित्य ठाकरे से पूछा गया। उस पर वे बोले कि हमारी सीटों को लेकर सभी पूछ रहे हैं, लेकिन भाजपा समर्थित खोके सरकार से कोई भी नहीं पूछ रहा है। हमने ३२-१२-४ का फॉर्मूला सुना था। लेकिन लोकसभा की ४८ सीटों में भाजपा को कितने मिलेंगे, खोके गैंग को कितने मिलेंगे, राष्ट्रवादी से अलग हुए गुट को कितने मिलेंगे, ईडी को कितना मिलेगा, आईटी को कितना मिलेगा और सीबीआई को कितना मिलेगा, ऐसा तीखा सवाल भी आदित्य ठाकरे ने खड़ा किया।
प्रधानमंत्री के लिए हमारे पास सैकड़ों विकल्प, भाजपा के पास एक ही
महाविकास आघाड़ी में सीट बंटवारे पर किसी तरह का कोई भी विवाद नहीं है। कौन कितने निर्वाचन क्षेत्र पर जीत सकता है, इसकी जांच हम कर रहे हैं। क्योंकि मौजूदा सरकार फिर से केंद्र में बैठती है तो चुनाव को भूल जाएं, बाबासाहेब आंबेडकर के संविधान को भी बदल दिया जाएगा। इस तरह का डर भी आदित्य ठाकरे ने व्यक्त किया। लोकतंत्र और संविधान के लिए `इंडिया’ गठबंधन लड़ रहा है। हमारे पास प्रधानमंत्री पद के लिए सैकड़ों विकल्प हैं, जबकि भाजपा के पास एक ही है। इस तरह से आदित्य ठाकरे ने खिल्ली भी उड़ाई।
अपना आंकड़ा बता देंगे तो चुनाव नहीं ल़ड़ेंगे भाजपावाले
भाजपा ने देश में ४०० प्लस और महाराष्ट्र में ४५ प्लस का नारा दिया है। अब आपका नारा क्या है, आपका आंकड़ा कितना है इस सवाल का जबाव देते हुए, हम आंकड़ों पर नहीं जाते, आंकड़ा बताने पर भाजपा वाले चुनाव नहीं कराएंगे। इस तरह का जवाब आदित्य ठाकरे ने दिया। महाराष्ट्र में ४५ प्लस कर रहे हैं, इस जगह भाजपावाले अकेले लड़ेंगे या गद्दारों के साथ ये भी स्पष्ट करिए, ऐसा भी उन्होंने कहा।

अन्य समाचार