मुख्यपृष्ठखबरेंपर्यावरण मंत्री आदित्य ठाकरे का निर्देश, ग्लोबल डिजाइनवाली लास्ट माइल की सड़कें...

पर्यावरण मंत्री आदित्य ठाकरे का निर्देश, ग्लोबल डिजाइनवाली लास्ट माइल की सड़कें बनाओ!

-मनपा के सभी वॉर्डों में सड़क बनाने का दिया आदेश
-सुरक्षित सड़क निर्माण प्रशिक्षण का हुआ समापन
सामना संवाददाता / मुंबई। लास्ट माइल कनेक्टिविटी के सिद्धांत में सुधार किया गया है। अब दुनिया के कई शहरों में सुरक्षित और सुंदर सड़कों के निर्माण पर जोर दिया जा रहा है। वैश्विक स्तर के सिद्धांतों को अपनाकर मुंबई में भी सड़कों का निर्माण करना है। इसके तहत शुरुआत में मुंबई के सभी वॉर्डों में कम-से-कम एक सड़क बनाने का प्रयास किया जाना चाहिए। यह आह्वान राज्य के पर्यावरण मंत्री आदित्य ठाकरे ने कल किया।
बता दें कि एक सप्ताह तक मनपा के करीब ३४५ इंजीनियरों को सुरक्षित सड़क निर्माण योजना के सिद्धांतों पर प्रशिक्षित किया गया है। ग्लोबल डिजाइनिंग सिटीज इनिशिएटिव और ब्लूमबर्ग फिलान्थ्रॉपीज इनिशिएटिव फॉर ग्लोबल रोड सेफ्टी के सहयोग से मनपा द्वारा आयोजित इस उपक्रम का समापन समारोह पर्यावरण मंत्री आदित्य ठाकरे के हाथों कल ‘सह्याद्रि’ अतिथि गृह में संपन्न हुआ है। कार्यक्रम में अतिरिक्त मनपा आयुक्त (प्रकल्प) पी. वेलरासू, उपायुक्त (मूलभूत सुविधा) उल्हास महाले, ग्लोबल डिजाइनिंग सिटीज इनिशिएटिवज की एशिया और अप्रिâका प्रादेशिक प्रमुख अभिमन्यु प्रकाश, भारत की परियोजना व्यवस्थापक उदिति अग्रवाल, जसवंत कासला सहित अन्य गणमान्य उपस्थित थे। इस दौरान पर्यावरण मंत्री आदित्य ठाकरे ने कहा कि इमारत निर्माण मतलब शहर की पहचान बनाना है। मुंबई में मरीन ड्राइव पर आर्ट डेको जैसी इमारतें इसका एक अच्छा उदाहरण हैं। इस साल देश की आजादी का ७५वां साल पूरा हो रहा है। जिस समय आजादी के १०० साल पूरे होंगे, उस समय हमने लोगों को क्या दिया इस पर अभी से विचार करना पड़ेगा। मुंबई में पहले दैनिक १०,००० मीट्रिक टन कचरा निकलता था, जो अब ६,००० मीट्रिक टन तक कम हो गया है।
शहर में ३६५ स्टॉपों का निर्माण
पर्यावरण मंत्री आदित्य ठाकरे ने आगे कहा कि अब मुंबई में सड़क निर्माण पर विशेष ध्यान दिया जा रहा है। मुंबई में सड़क के सफर को किलोमीटर से अधिक समय में मापा जाता है। मुंबई के सात फीसदी नागरिक स्वयं के वाहनों में चलते हैं, फिर भी ट्रैफिक जाम होता है। ऐसे में ट्रैफिक जाम की समस्या को दूर करने के लिए कई तरह के प्रमुख प्रकल्पों का निर्माण तेज गति से किया जा रहा है। सभी सड़क निर्माण प्रणालियों को एक साथ लाकर सुधार किया जा रहा है। हालांकि ऐसा करते समय सड़क निर्माण में अच्छी योजना को शामिल करना आवश्यकता है। इससे ट्रैफिक की समस्या का समाधान हो सकता है। सुरक्षित सड़क निर्माण के पीछे यही लक्ष्य है कि सिर्फ वाहन ही नहीं, बल्कि सभी नागरिक सड़क का सही इस्तेमाल कर सकें। मुंबई के आकर्षण और शहरी सुंदरता को जोड़नेवाले १०५ नए बस स्टॉप का निर्माण प्रगति पर है और अन्य ३६५ का निर्माण किया जा रहा है।

अन्य समाचार