मुख्यपृष्ठनए समाचारशिव आरोग्य सेना की मांग पर प्रशासन की खुली नींद! ... राजावाड़ी...

शिव आरोग्य सेना की मांग पर प्रशासन की खुली नींद! … राजावाड़ी अस्पताल के पोस्टमार्टम घर की होगी मरम्मत

• जल्द उपलब्ध कराई जाएगी निधि
• पोस्टमार्टम घर पर बढ़ गया था दबाव

सामना संवाददाता / मुंबई
दयनीय स्थिति से गुजर रहे राजावाड़ी अस्पताल के पोस्टमार्टम घर की मरम्मत किए जाने की मांग शिवसेना (उद्धव बालासाहेब ठाकरे) की शिव आरोग्य सेना ने की थी। उनकी मांग के बाद प्रशासन की नींद खुली और इस पर संज्ञान लेते हुए मनपा ने यहां के पोस्टमार्टम घर और शव परीक्षण केंद्र की मरम्मत करने का पैâसला लिया है। इस काम में मुंबई उपनगर खनिज प्रतिष्ठान द्वारा उपलब्ध कराई जानेवाली निधि का इस्तेमाल किया जाएगा। बता दें कि कोरोना की दूसरी लहर में मौतों की संख्या बढ़ने से पोस्टमार्टम घर पर दबाव बढ़ गया था, ऐसे में इसके मरम्मत की जरूरत है।

उल्लेखनीय है कि मुंबई मनपा के अस्पतालों में पोस्टमार्टम घर और शव परीक्षण केंद्र राज्य सरकार द्वारा संचालित किए जाते हैं। इनमें से घाटकोपर स्थित राजावाड़ी अस्पताल की पोस्टमार्टम इमारत खतरनाक स्थिति में है। पोस्टमार्टम की दयनीय स्थिति और लोगों को हो रही परेशानियों को गंभीरता से लेते हुए कुछ दिन पहले शिव आरोग्य सेना की अध्यक्ष डॉ. शुभा राऊल, कार्याध्यक्ष डॉ. किशोर ठाणेकर के निर्देशानुसार महाराष्ट्र राज्य समन्वयक जितेंद्र सकपाल की प्रमुख उपस्थिति में संगठन के पदाधिकारियों ने संबंधित अधिकारियों से मुलाकात कर समस्या को हल किए जाने संबंधी ज्ञापन सौंपा था। शिव आरोग्य सेना की मांग को प्रशासन ने संज्ञान में लिया और मुंबई मनपा ने इस पोस्टमार्टम घर की मरम्मत के लिए मुंबई उपनगरीय खनिज विभाग को एक प्रस्ताव भेजा था, जिसे विभाग ने मंजूरी दे दी है। बताया गया है कि यह प्रस्ताव प्रधानमंत्री खनिज क्षेत्र कल्याण योजना के तहत मंजूर किया गया है। बता दें कि विभाग ने मुंबई उपनगरों में चार शव परीक्षण केंद्रों और चार पोस्टमार्टम घरों की मरम्मत के लिए निधि उपलब्ध कराने का आश्वासन दिया है, इसमें राजावाड़ी अस्पताल का पोस्टमार्टम घर भी शामिल है, जिसके लिए टेंडर प्रक्रिया पूरी कर ली गई है, ठेकेदार का चयन भी कर लिया गया है। इस काम को पूर्ण करने की १.२४ करोड़ रुपए अनुमानित लागत है। हालांकि, अभी तक मुंबई उपनगर खनिज क्षेत्र प्रतिष्ठान ने मनपा को निधि मुहैया नहीं कराई है। यह निधि उपलब्ध होते ही संबंधित ठेकेदारों का इसका कार्यादेश से दिया जाएगा।

अन्य समाचार