मुख्यपृष्ठसमाचारदूध, पनीर, चाय पत्ती में मिली मिलावट; यूपी में स्वास्थ्य के साथ...

दूध, पनीर, चाय पत्ती में मिली मिलावट; यूपी में स्वास्थ्य के साथ खिलवाड़!

सामना संवाददाता / गोरखपुर
खाद्य सुरक्षा एवं औषधि प्रशासन विभाग ने मिलावट करने वाले १२ कारोबारियों के विरुद्ध एडीएम सिटी के कोर्ट में मुकदमा दर्ज कराया है। इनपर जुर्माना लगाया जाएगा। खाद्य सुरक्षा अधिकारियों की टीम ने पिछले दिनों इन प्रतिष्ठानों से विभिन्न खाद्य पदार्थों का नमूना लिया था और प्रयोगशाला में जांच के दौरान नमूने फेल पाए गए हैं। पिछले महीने एडीएम सिटी कोर्ट से ३० से अधिक कारोबारियों पर करीब चार लाख रुपए का जुर्माना लगाया गया था।
इन सामानों की हुई थी जांच
सहायक आयुक्त खाद्य कुमार गुंजन ने बताया कि विभाग द्वारा जिले के अलग-अलग क्षेत्रों से दूध, पनीर, मिठाई, चाय की पत्ती आदि के नमूने संग्रहीत किए गए थे। नमूने संग्रहित कर परीक्षण के लिए प्रयोगशाला भेजे गए थे। इस महीने आई रिपोर्ट में १२ नमूने फेल मिले हैं। इनमें से अधिकतर नमूने अधोमानक मिले हैं यानी उनकी गुणवत्ता मानक के अनुरूप नहीं मिली है। कुछ नमूने मिथ्याछाप (मिस ब्रांड) पाए गए हैं। इनमें पैकेजिंग नियमों की अनदेखी दिखी है।
इन लोगों पर हो रही कार्रवाई की तैयारी
सहायक आयुक्त ने बताया कि मेडिकल कालेज स्थित एजेएम इंटरप्राइजेज, डोहरिया बाजार के साजमन निषाद, भोपा बाजार का दिलीप स्वीट्स एंड फास्ट फूड रेस्टोरेंट, महराजगंज चौराहा स्थित एएसएम इंटरप्राइजेज और शहर के कोतवाली रोड के क्षितीश चंद्र मिश्रा का नाम शामिल है। इसी तरह पडौली के सुग्रीव वर्मा, हुंमायूपुर के देवेंद्र प्रसाद, रूद्रापुर खोराबार के राजेंद्र प्रसाद गुप्ता, हरपुर बुदहट के उमेश, बघौड़ा बांसगांव के सुनील यादव, जंगल रामलखना के विजय यादव और सरया तिवारी खजनी के सौरभ यादव के खिलाफ भी मुकदमा दर्ज कराया गया है। सहायक आयुक्त ने बताया कि जल्द ही और नमूनों के परीक्षण की रिपोर्ट भी आ जाएगी। रिपोर्ट आने के बाद उन व्यापारियों के विरुद्ध भी मुकदमा दर्ज कराया जाएगा। इन सभी पर एडीएम सिटी कोर्ट से जुर्माना लगाया जाएगा।

अन्य समाचार