मुख्यपृष्ठखबरेंयह यूपी नहीं, महाराष्ट्र है... यहां कानून और संविधान का राज चलता...

यह यूपी नहीं, महाराष्ट्र है… यहां कानून और संविधान का राज चलता है

कानून के दायरे में रहना जरूरी
भाजपा शासित राज्यों में उन्माद क्यों?
उपमुख्यमंत्री अजीत पवार ने उठाए सवाल
सामना संवाददाता / मुंबई। उत्तर प्रदेश के योगी राज में क्या चल रहा है, हमें उससे मतलब नहीं है। महाराष्ट्र प्रगतिशील राज्य है और देश को सर्वाधिक योगदान देता है। हम शांति-अमन-चैन और विकास चाहते हैं, धार्मिक उन्माद नहीं। मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे के नेतृत्व में हम लोकतंत्र और संविधान के दायरे में रहते हुए आगे बढ़ रहे हैं। आखिरकार गैर-भाजपा शासित राज्यों में उन्माद पैâलाने की कोशिश किसके इशारे पर की जा रही है, इसे लेकर उपमुख्यमंत्री अजीत पवार ने सवाल उठाए हैं।
उपमुख्यमंत्री पवार के अनुसार राज्य सरकार ने सूबे में शांति बहाली के लिए सर्वदलीय बैठक बुलाई थी। भाजपा ने बैठक का बहिष्कार किया और मनसे अपने रुख पर अड़ी हुई है। इसके अलावा सभी पार्टियों ने एकजुटता का रुख अपनाया है। पवार ने कहा कि लाउडस्पीकर पर सुप्रीम कोर्ट पैâसला सुना चुका है। अगर नया पैâसला करना है तो एक नया कानून बनाना होगा। उत्तर प्रदेश में योगी की सरकार है, जो चाहे करे। हम महाराष्ट्र में रहते हैं। महाराष्ट्र एक ऐसा राज्य है जो सभी जातियों और धर्मों को एक साथ लेकर चलता है। हम धार्मिक उन्माद की ओर नहीं, विकास की ओर बढ़ेंगे। लोकतंत्र और संविधान का सम्मान रखते हुए हम आगे बढ़ेंगे। नियमों और कानून का उल्लंघन करने वालों पर संविधान और कानून के तहत कार्रवाई की जाएगी।
उपमुख्यमंत्री ने कहा कि महाराष्ट्र में सब कुछ संविधान के दायरे में चल रहा है और आगे भी चलेगा। हम किसी पर अन्याय नहीं चाहते। राज्य में लोग सुख शांति से रहें और सभी विकास करें। धार्मिक और जातिवाद पैâलाकर राज्य को पीछे ले जाने की मंशा कामयाब नहीं होने दी जाएगी।

अन्य समाचार