मुख्यपृष्ठनए समाचारउपमुख्यमंत्री अजीत पवार का दावा, वार्षिक योजना की विकास निधि में नहीं...

उपमुख्यमंत्री अजीत पवार का दावा, वार्षिक योजना की विकास निधि में नहीं हुई है कटौती!

-सड़कों और भवनों के निर्माण के लिए दिए २१ हजार करोड़ रुपए
-कांजुरमार्ग मेट्रो स्टेशन मामला लोकसभा और राज्यसभा में उठाएंगे आघाड़ी के सांसद
सामना संवाददाता / मुंबई। जिले की वार्षिक योजना या विकास निधि में किसी भी प्रकार की कटौती नहीं की गई है। राज्य के इतिहास में पहली बार पीडब्ल्यूडी को सड़कों और भवनों के निर्माण के लिए २१,००० करोड़ रुपए दिए गए हैं। यह जानकारी मुंबई में मीडिया से बातचीत करते हुए वित्त मंत्री अजीत पवार ने दी।
काम पर नहीं आनेवाले एसटी कर्मचारियों के बारे में बात करते हुए अजीत पवार ने कहा कि परिवहन मंत्री अनिल परब ने ३० मार्च तक का अल्टीमेटम दिया था। १ अप्रैल तक काम पर आए लोगों को काम पर रखने का वादा किया गया था। चूंकि मामला उच्च न्यायालय में लंबित था, इसलिए कुछ कर्मचारियों को पैâसला आने तक इंतजार करने को कहा गया था। कल कोर्ट ने साफ कर दिया है। जब न्यायपालिका निर्णय देती है तो उस निर्णय को मानना सभी के लिए अनिवार्य हो जाता है। हाईकोर्ट ने केंद्र और राज्य सरकार से कांजुरमार्ग मेट्रो स्टेशन के विवाद को सुलझाने को कहा है। इस सवाल पर अजीत पवार ने कहा कि इस संदर्भ में मुख्यमंत्री ने दो-तीन बार जानकारी दी है। काम करते समय विवाद न हो, यह राज्य सरकार की भावना है। केंद्र सरकार का अधिवेशन शुरू है। राज्यसभा और लोकसभा के आघाड़ी सदस्यों को इस मुद्दे को उठाने को कहा गया है, ऐसा अजीत पवार ने कहा।
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और शरद पवार के बीच हुई चर्चा के बारे में पूछे गए सवाल पर अजीत पवार ने कहा कि शरद पवार और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के बीच हुई बातचीत को लेकर जानबूझकर भ्रम पैâलाया जा रही है। कुछ लोग इस तरह की खबरें जानबूझकर पैâलाकर जनता में भ्रम निर्माण कर रहे हैं। इसका कोई मतलब नहीं है, ऐसा मेरा स्पष्ट मत है।
साथ ही एक बार पवार साहेब बोल दिए, उसके बाद हम जैसे छोटे कार्यकर्ता को इस बारे में बात करना उचित नहीं होगा, ऐसा अजीत पवार ने कहा।

अन्य समाचार