मुख्यपृष्ठराजनीतिविधानसभा में भिड़े अखिलेश और योगी, अखिलेश बोले-यूपी में सांड सफारी बनवा...

विधानसभा में भिड़े अखिलेश और योगी, अखिलेश बोले-यूपी में सांड सफारी बनवा दीजिए, योगी बोले-सपा राज में सांड बूचड़खाने में होते थे

मनोज श्रीवास्तव / लखनऊ
यूपी विधानसभा के मानसून सीजन के अंतिम दिन नेता प्रतिपक्ष अखिलेश यादव और मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के बीच तीखे और आक्रामक वार और पलटवार देखने को मिले। नेता प्रतिपक्ष ने सरकार को बाढ़, सूखे से लेकर सड़कों पर आवारा पशुओं और सांड़ के मुद्दे पर घेरा तो मुख्यमंत्री ने अखिलेश के सवालों के जवाब में उनके चाचा की चुटकी ली और अवैध बूचड़खाने तक कि चर्चा कर दिया। अपने संबोधन में नेता प्रतिपक्ष ने खुद को कृष्ण का वंशज बताया था तो जवाबी भाषण में योगी ने कहा कि आपने तो कावड़ियों को बैन कर दिया था। जन्माष्टमी महोत्सव को बैन कर दिया गया था। जब मैं आया तो मैंने पूछा कि जन्माष्टमी पर क्या कार्यक्रम है, तब बताया गया कि बैन किया गया है। तब मैंने कहा कि जन्माष्टमी सभी थानों और जेलों में धूमधाम से मनाया जाएगा।
सीएम योगी ने कहा कि मुझे आश्चर्य होता है कि कांवड़ यात्रा में पुष्पवर्षा से भी लोगों को दिक्कत हो रही है। आपने इसे भी बैन कर दिया था। हमने सबको सुरक्षा दी और इसे दोबारा प्रारंभ किया। हां ये जरूर है कि हमने संवाद किया और आज सड़कों पर नमाज नहीं होती है। अखिलेश ने आवारा पशुओं के मुद्दे को जोर से उठाया। उन्होंने तेंदुओं और सांड़ से मरने वालों की सूची पढ़ते हुए सरकार से सवाल किया कि आप इस पर काम क्यों नहीं कर रहे हैं। क्या आपके पास बजट की कमी है। अगर कुछ नहीं हो सकता है तो कम से कम सांड सफारी ही बना लें। ऐसा कोई जिला नहीं बचा, जहां पर सांड से किसी की जान न गई होगी। संभल, मुरादाबाद, चंदौसी, मुरादाबाद, हसनपुर और कितने नाम बताऊं आपको जहां सांड के हमले से जान न गई हैं। सांड के मुद्दे पर जवाब देते हुए सीएम योगी ने आगे कहा कि हम तो नंदी के रूप में उसकी पूजा करते हैं। उन्होंने शिवपाल से पूछा कि क्या आप नंदी के रूप में पूजा नहीं करते। योगी ने कहा कि इनकी परेशानी सांड से नहीं, इलीगल स्लाटर हाउस बंद होने से हैं।
अखिलेश ने कहा कि आप हमें सपना दिखा रहे हैं कि हम बड़ी अर्थव्यवस्था बनने जा रहे हैं और एक तरफ केंद्र सरकार ने बासमती राइज पर बैन लगा दिया है। ये आपका बस नारा है कि हम किसानों की आय दोगुनी करेंगे। आप ऐसा कैसे करेंगे, ये बस कहने की बात है। अगर किसान अपनी जमीन दे रहा है तो आप उस पर बिजनेस करेंगे और मुनाफा कमाएंगे तो आप किसानों की मदद क्यों नहीं कर रहे हैं। नोएडा और ग्रेटर नोएडा में आप सर्किल रेट को क्यों नहीं बड़ा देते। खजाना खाली होगा तो एक बार फिर भर जाएगा। एक दिन की बरसात में गोरखपुर शहर डूब गया। आप अपना गृह शहर तो ठीक नहीं कर पाए पूरा प्रदेश क्या ठीक करेंगे?
अखिलेश पर तंज करते हुए योगी आदित्यनाथ ने कहा कि अभी आप लोगों के पास समय है तो कुछ सीख लेना चाहिए। शिवपाल की ओर इशारा करते हुए सीएम योगी ने कहा कि इन्हें कुछ सिखाइए। जब कोरोना काल था हमने चीनी मिलें चलाईं। एक ये विपक्ष हैं, ये वैक्सीन के ऊपर ही सवाल उठा रहे थे। हमारी दोनों वैक्सीन दुनिया में सबसे ज्यादा असरदार रहीं। हमारी वैक्सीन इतनी प्रभावी थी कि चौथी वेब आने के पहले ही रुक गई। योगी ने कहा कि आप ऑस्ट्रेलिया से यही पढ़कर आए हैं कि वैज्ञानिक सोच का विरोध किया जाए।

अन्य समाचार