मुख्यपृष्ठनए समाचारएलओसी पर अनोखा कोल्ड स्टोरेज! ...जमीन में दफनाकर आलू को करते हैं...

एलओसी पर अनोखा कोल्ड स्टोरेज! …जमीन में दफनाकर आलू को करते हैं संरक्षित

–सुरेश एस डुग्‍गर–
जम्‍मू। जैसे ही उत्तरी कश्मीर के बांदीपोरा जिले की गुरेज़ घाटी में सर्दी की ठंडक महसूस होने लगती है, गहरी परंपराओं और अपनी भूमि से गहरा संबंध रखने वाले स्थानीय किसान कोल्‍ड स्‍टोरेज के लिए सदियों पुरानी प्रथा को अपनाते हैं और ताजा आलुओं को वे जमीन में दफना देते हैं ताकि सर्दियों के भयानक दिनों में वे जीवित रहने के लिए उनका इस्‍तेमाल कर सकें।

दरअसल बर्फ से जमी हुई धरती के नीचे आलू को दफनाने की कालातीत तकनीक आने वाले कई महीनों तक उनके संरक्षण और उपयोगिता को सुनिश्चित करती है। स्थानीय लोगों के अनुसार यह प्राचीन भंडारण विधि गुरेज के लिए अद्वितीय नहीं है। यह पूरे गिलगित-बाल्टिस्तान क्षेत्र में बड़े पैमाने पर प्रचलित है, जो स्थानीय लोगों की अपने पर्यावरण के अनुकूल ढलने की सरलता और साधन संपन्नता का प्रमाण है।

ज़मीन से गहरा जुड़ाव रखने वाले एक स्थानीय किसान गुलाम रसूल कहते हैं कि हमारे पूर्वजों ने हमें आलू संरक्षण की कला सिखाई थी। हम बर्फ से जमी हुई धरती में गहराई तक खुदाई करते हैं, जैसा उन्होंने किया था, यह सुनिश्चित करते हुए कि हमारे आलू उतने ही ताजा रहें जितने पहले थे। वे कहते थे कि यह सिर्फ खेती नहीं है; यह जीवन जीने के तरीके को संरक्षित करना है।

गुरेज़ की समृद्ध और काली मिट्टी से भरे अपने हाथों से आलुओं को दफनाने की प्रक्रिया में जुटी नसरीना बानो कहती थी कि जब हम अपने आलू को दफनाते हैं, तो हम सिर्फ भोजन का भंडारण नहीं कर रहे हैं; हम कड़ी मेहनत और समर्पण की यादें संग्रहीत कर रहे हैं। प्रत्येक आलू में हमारी विरासत का एक टुकड़ा होता है। जानकारी के लिए गुरेज घाटी पहले से ही भारत के आलू उत्पादन में एक महत्वपूर्ण योगदानकर्ता है, जो सालाना लगभग 15,000 टन इस स्टार्चयुक्त प्रधान पदार्थ का उत्पादन करती है।

हालांकि, जो चीज गुरेज को अलग करती है वह है इसकी अनूठी जलवायु और उपजाऊ मिट्टी, जो इसे आलू की खेती के लिए एक आदर्श क्षेत्र बनाती है। समुद्र तल से लगभग 8,000 फीट की ऊँचाई वाली यहाँ की ऊँचाई अद्वितीय चुनौतियाँ प्रस्तुत करती है, लेकिन कृषि के लिए विशिष्ट लाभ भी प्रस्तुत करती है। इस साल की शुरुआत में, वैश्विक खाद्य और पेय पदार्थ कंपनी पेप्सिको तब सुर्खियों में आई जब उसने गुरेज के किसानों से आलू खरीदने की योजना की घोषणा की। वर्ष 1989 में भारतीय बाजार में प्रवेश करने वाली अमेरिकी बहुराष्ट्रीय निगम पेप्सिको का यह कदम सुदूर घाटी और इसकी पारंपरिक कृषि पद्धतियों को सबके समक्ष उजागर करता था।

यही नहीं कश्‍मीर के सबसे खूबसूरत गांवों में से एक तुलैल गांव, इस कृषि उद्यम में सबसे आगे है। यहां लगभग हर परिवार अपनी आजीविका के लिए आलू की खेती पर निर्भर है। तुलैल के निवासियों के लिए, उनके आलू सिर्फ फसल नहीं हैं; वे गर्व और जीविका का स्रोत हैं।
वर्ष 2015 में कश्‍मीर को पर्यटन के लिए खोले जाने के बाद गुरेज घाटी के आलू उद्योग की संभावनाएं सामने आईं। इसकी अद्वितीय प्राकृतिक सुंदरता की ओर आकर्षित पर्यटकों की आमद ने घाटी की कृषि पेशकशों की ओर भी ध्यान आकर्षित किया। विशेष रूप से, लगभग 40,000 लोगों की आबादी वाली वैली, हर साल लगभग छह महीने तक कश्मीर के बाकी हिस्सों से कटी रहती है, जिससे चिकित्सा और आवश्यक आपूर्ति की कमी होती है।

अन्य समाचार