मुख्यपृष्ठनए समाचारछात्राओं का कमाल: भाइयों की सुरक्षा करेगी `स्मार्ट राखी'!

छात्राओं का कमाल: भाइयों की सुरक्षा करेगी `स्मार्ट राखी’!

सामना संवाददाता / गोरखपुर
प्रतिभावानों का हुनर छिपाए नहीं छिपता है। इंजीनियरिंग की दो छात्राओं ने रक्षाबंधन से ठीक पहले भाइयों को ऐेसा तोहफा दिया है जो उनके लिए सुरक्षा कवच का काम करेगा। बता दें कि रक्षाबंधन के दिन बहनें, भाइयों की कलाई पर राखी बांधती हैं और भाई रक्षा का वचन देता है। साथ ही उपहार स्वरूप भी कुछ देता है लेकिन इंजीनियरिंग की इन दोनों छात्राओं ने एक ऐसी `स्मार्ट राखी’ बनाई है, जो कलाई की शोभा बढ़ाने के साथ ही भाइयों की सुरक्षा में भी मददगार साबित होगी। इस डिवाइस युक्त राखी में एक बटन है, जिसे हादसा होने पर दबाते ही वो दर्ज नंबरों पर खतरे के अलर्ट के साथ ही ब्लड ग्रुप व लोकेशन का संदेश भी भेजेगा। इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी एंड मैनेजमेंट (आईटीएम) गीडा की वंâप्यूटर साइंस एंड इंजीनियरिंग की छात्रा पूजा यादव और फार्मेसी की छात्रा विजया रानी ओझा ने इस स्मार्ट राखी को बनाया है। इस राखी का नाम उन्होंने स्मार्ट मेडिकल सेफ्टी राखी रखा है। छात्राओं ने बताया कि यह राखी देखने में भी बहुत सुंदर है। सुरक्षा के कई फीचर इसमें हैं, जो खतरे के समय बहुत ही उपयोगी साबित होंगे। संस्थान के निदेशक डॉ. एन.के. सिंह ने बताया कि कोशिश की जाएगी कि इस नवाचार को जल्द-से-जल्द बाजार में लाया जाए।
बटन को एक बार दबाना होगा
छात्राओं ने बताया कि राखी में लगे डिवाइस में पांच मोबाइल नंबर दर्ज किए जा सकते हैं। घरवालों के नंबर के अलावा डॉक्टर, एंबुलेंस का नंबर दर्ज कर सकते हैं। अप्रिय घटना होने पर राखी में एक बार बटन दबाना होगा, जीपीएस के माध्यम से परिजनों के मोबाइल पर खतरे का मैसेज पहुंचने के साथ ही लोकेशन भी पहुंच जाएगा।
९०० रुपए में हुई तैयार
इस स्मार्ट राखी को बनाने में ९०० रुपए का खर्च आया है। इसमें ब्लूटूथ और बैटरी के अलावा नैनो पाट्र्स का इस्तेमाल किया गया है। एक बार चार्ज होने पर ये करीब १२ घंटे का बैकअप देगी। गाड़ी चलाने के दौरान इसे ब्लूटूथ से अटैच किया जा सकता है।

अन्य समाचार