मुख्यपृष्ठसमाचारमनपा इंजीनियरों का कमाल: ४ माह पूर्व ही मिशन कंप्लीट

मनपा इंजीनियरों का कमाल: ४ माह पूर्व ही मिशन कंप्लीट

  • खोद डाली ४.३ किमी की जल सुरंग
  • डेढ़ महीने में दूसरे चरण की शुरू होगी खुदाई

सामना संवाददाता / मुंबई
मुंबई मनपा द्वारा जल आपूर्ति में सुधार के लिए शुरू की गई लगभग ९.८ किलोमीटर लंबी भूमिगत जल सुरंग परियोजना के तहत दो चरणों में खनन किया जा रहा है। इसके तहत पहले चरण में मनपा इंजीनियरों ने अमरमहल से वडाला के बीच ४.३ किमी जल सुरंग की रिकॉर्ड १० महीने में खुदाई के काम को पूरा कर कमाल कर दिखाया है। हालांकि इस सुरंग की खुदाई के लिए १४ महीने का समय निर्धारित किया गया था। फिलहाल अब दूसरे चरण के तहत दो महीने बाद वडाला से परेल के बीच जल सुरंग की खुदाई शुरू होगी, वहीं इस उपलब्धि से परियोजना की गति बढ़ेगी।
उल्लेखनीय है कि मनपा के जल आपूर्ति परियोजना विभाग के माध्यम से वर्तमान में अमरमहल से वडाला तक और वडाला से परेल तक कुल ९.८ किमी भूमिगत जल सुरंग की निर्माण परियोजना प्रगति पर है। जल सुरंग खनन के लिए एक सुरंग खनन संयंत्र (टीबीएम) भी कार्यरत है। मनपा प्रशासन के मुताबिक परियोजना में सुरंग खनन को दो चरणों में विभाजित किया गया है।
शुरू हुआ था पहले चरण का काम
पहले चरण में हेडगेवार उद्यान (अमरमहल) से प्रतिमा नगर (वडाला) के बीच लगभग ४.३ किमी लंबी जल सुरंग का खनन ८ अक्टूबर २०२१ को शुरू किया गया था। इस काम को करीब १४ महीने की अवधि में यानी दिसंबर २०२२ तक पूरा करने की योजना थी। हालांकि जलापूर्ति में सुधार की आवश्यकता को ध्यान में रखते हुए, कोविड की परिस्थितियों और अन्य चुनौतियों को मात देते हुए मनपा आयुक्त डॉ. इकबाल सिंह चहल और अपर आयुक्त (परियोजना) पी. वेलरासु ने सुरंग की खुदाई तेजगति से शुरू रखने का आदेश दिया था। आदेश का पालन करते हुए उपायुक्त (विशेष अभियांत्रिकी) अजय राठौर, मुख्य अभियंता (जल आपूर्ति परियोजना) वसंत गायकवाड़ और उनके साथी अधिकारियों ने खनन के पहले चरण को तेज गति से जारी रखा। इसलिए खनन को कल लगभग १४ महीने की अनुमानित अवधि से ४ महीने पहले यानी सिर्फ १० महीने के रिकॉर्ड समय में पूरा किया गया है। खनन कार्य पूर्ण होने के बाद सुरंग संयंत्र बाहर निकला।
दूसरे चरण का शुरू होगा काम
इस बीच वडाला से परेल तक दूसरे चरण में भूमिगत जल सुरंग का खनन डेढ़ माह बाद शुरू हो जाएगा। पहला चरण पूरा होने के बाद बाहर निकला सुरंग खनन संयंत्र को करीब ८ डिग्री घुमाया जाएगा। दूसरे चरण का काम सीधे शुरू किया जाएगा। अमरमहल से परेल तक के पूरे प्रोजेक्ट को ध्यान में रखते हुए अब तक इसका ३४ प्रतिशत काम पूरा हो चुका है। मनपा प्रशासन को विश्वास है कि पूरा प्रोजेक्ट निर्धारित समय के भीतर यानी अप्रैल २०२६ तक कार्यान्वित हो जाएगा।
परियोजना की विशेषताएं
उक्त जल सुरंग के माध्यम से एफ/उत्तर, एफ/दक्षिण के साथ-साथ ई और एल वॉर्डों के कुछ क्षेत्रों के नागरिकों को वर्ष २०६१ तक पर्याप्त पानी की आपूर्ति करना संभव होगा। यह जल सुरंग लगभग १०० से ११० मीटर की गहराई पर है। इसका व्यास लगभग ३.२ मीटर है। इस परियोजना के तहत तीन शॉफ्ट का निर्माण शामिल है। हेडगेवार उद्यान में ११० मीटर गहराई और प्रतीक्षानगर में १०४ मीटर गहराई के दो बोरवेल का काम पूरा हो चुका है। इसी तरह परेल में १०१ मीटर शॉफ्ट का काम अभी प्रगति पर है। पहले चरण में हेडगेवार उद्यान में ९६.१५ मीटर शॉफ्ट की आरसीसी लाइनिंग को केवल २९ दिनों में पूरा किया। इसी तरह जनवरी २०२२ में एक महीने में ६०५ मीटर पानी की सुरंग की रिकॉर्ड खुदाई का काम पूरा किया गया।

अन्य समाचार