मुख्यपृष्ठविश्वईरान की जद में अमेरिकी ‘ताकत' ...किलर ड्रोन ने उड़ाया सुपर पावर...

ईरान की जद में अमेरिकी ‘ताकत’ …किलर ड्रोन ने उड़ाया सुपर पावर अमेरिका का होश

पिछले कई महीनों से चल रहे यूक्रेन-रूस युद्ध के बीच पूरी दुनिया पहले ही दो फाड़ हो चुकी है। अब दोनों ही तरफ से एक-दूसरे को पटखनी देने के लिए दांव पर दांव चले जा रहे हैं। ऐसे में रूस के सहयोगी देशों ने अब अमेरिका को निशाना बनाना शुरू कर दिया है। यह मामला तब और गंभीर हो गया जब ईरान ने एक वीडियो जारी कर सुपर पावर अमेरिका की टेंशन बढ़ा दी है। अमेरिका के ४० युद्ध पोत ईरान के निशाने पर होने की जानकारी इस वीडियो में दी गई है। ऐसे में देश तीसरे विश्व युद्ध की ओर खुलकर बढ़ रहा है।
पहले से ही ईरान और रूस रणनीतिक सहयोगी हैं और लंबे समय से एक-दूसरे को रक्षा क्षेत्र में मदद करते रहे हैं। सीरिया और इराक के संघर्षों में भी ईरान और रूस सैन्य सहयोगी रहे हैं। रूस ईरान को हथियारों की सप्लाई करता रहा है लेकिन यूक्रेन युद्ध के दौरान ईरान ने रूस को बड़े पैमाने पर मिसाइल और ड्रोन की आपूर्ति की है। इन हथियारों से पूरे यूरोप में हड़कंप मचा हुआ है। अंतर्राष्ट्रीय मीडिया की रिपोर्ट्स में कहा गया है कि अगले कुछ दिनों में इस तरह की ईरानी मिसाइलों का बटन व्लादिमीर पुतिन के पास होगा। रिपोर्ट में कहा गया है कि अगर पुतिन ने इन मिसाइलों का इस्तेमाल यूक्रेन पर किया तो यूरोप दहल सकता है। रूस के साथ पहले ही नॉर्थ कोरिया खड़ा था अब ईरान भी इस खेल में अहम कड़ी बनकर उभरा है।
यह वीडियो जारी कर ईरान ने खुद को सर्वशक्तिमान कहनेवाले अमेरिका को भी डरा दिया है। दरअसल, ईरान ने एक वीडियो जारी किया है, जिसमें दिख रहा है कि फारस की खाड़ी में तैनात अमेरिकी नेवी के ४० पोत उसकी जद में हैं। इसमें अमेरिका का सबसे खतरनाक डिस्ट्रॉयर युद्धपोत भी शामिल है। अमेरिका के लिए यह चिंता इसलिए भी बड़ी है क्योंकि फारस की खाड़ी में तैनात अमेरिकी बेड़े का वीडियो जिस ईरानी ड्रोन ने बनाया है, वह किलर ड्रोन है, जो पल भर में किसी पोत को नेस्तनाबूद कर सकता है।
अमेरिकी रक्षा मंत्रालय समेत वॉशिंगटन में हाहाकर इस बात पर मचा है कि आखिर इतने नजदीक से आकर ईरानी ड्रोन ने वीडियो वैâप्चर कर लिया और अमेरिका को कानो-कान खबर तक वैâसे नहीं हुई? अमेरिकी एजेंसियां इसे भांप पाने में नाकाम वैâसे रहीं? इसी बीच ईरान ने २०० ड्रोन एक साथ लॉन्च कर बड़ा युद्धाभ्यास किया है। ये ड्रोन मिसाइल से लैस हैं। सभी ड्रोन ईरान ने खुद बनाए हैं। ईरान की ड्रोन टेक्नोलॉजी बहुत आगे पहुंच चुकी है। यूक्रेन युद्ध में ईरान, रूस के साथ यमन और सीरिया में भी उसका इस्तेमाल होता रहा है। अब लेबनान में हिजबुल्ला भी ईरानी ड्रोन की मदद ले रहा है।

अमेरिका पर क्यों भड़का है ईरान
ईरान इस वक्त अमेरिका पर भड़का हुआ है। वह बार-बार कहता रहा है कि जनरल कासिम सुलेमानी की हत्या का बदला अब तक पूरा नहीं हो सका है। ईरान में जनरल सुलेमानी का कद ताकतवर सर्वोच्च धार्मिक नेता के बाद दूसरे नंबर का था, जिसे अमेरिकी हमले में जनवरी २०२० में मार दिया गया था।

अन्य समाचार