मुख्यपृष्ठग्लैमर`...और मैंने हां बोल दिया!' : आर. माधवन

`…और मैंने हां बोल दिया!’ : आर. माधवन

बॉलीवुड में फिल्म `रहना है तेरे दिल में’ से डेब्यू करनेवाले अभिनेता आर. माधवन आज किसी परिचय के मोहताज नहीं हैं। `तनु वेड्स मनु’ जैसी सुपरहिट फिल्म में काम करनेवाले आर. माधवन फिल्म `रॉकेट्री’ से खासी सुर्खियां बटोर रहे हैं। आगामी २३ सितंबर को रिलीज होनेवाली फिल्म `धोखा राउंड द कॉर्नर’ में वे खुशहाली कुमार के अपोजिट नजर आएंगे। पेश है, आर. माधवन से सोमप्रकाश `शिवम’ की हुई बातचीत के प्रमुख अंश-

  • फिल्म `धोखा’ के बारे में कुछ बताएंगे?
    यह फिल्म बहुत ही अच्छी थ्रिलर कहानी पर आधारित होगी, जिसमें मेरे साथ फिल्म ‘कश्मीर फाइल्स’ फेम अभिनेता दर्शन कुमार भी एक महत्वपूर्ण किरदार निभा रहे हैं। फिल्म का निर्माण टी सीरीज कंपनी  द्वारा किया गया है। दिलचस्प बात ये है कि इस फिल्म से टी सीरीज की मालकिन खुशहाली कुमार स्वयं बॉलीवुड में बतौर अभिनेत्री डेब्यू कर रही हैं, यह उनकी पहली फिल्म होगी।
  • फिल्म की मुख्य नायिका खुशहाली कुमार के अभिनय को आप किस तरह देखते हैं?
    इस फिल्म में मेरे साथ खुशहाली कुमार ने बहुत ही शानदार व उम्दा अभिनय किया है। उन्हें पर्दे पर देखकर कोई यकीन ही नहीं कर सकता कि यह नायिका की डेब्यू फिल्म होगी। खुशहाली कुमार बहुत ही मैच्योर और अभिनय के प्रति लगनशील कलाकार हैं। उनका भविष्य उज्ज्वल है। इस फिल्म के अलावा भी खुशहाली कुछ और फिल्मों में भी काम कर रही हैं।
  • फिल्म के निर्देशक कुकी गुलाटी के साथ काम करने का अनुभव कैसा  रहा?
    इस फिल्म में मेरे साथ बतौर निर्देशक कुकी गुलाटी ने पहली बार काम किया है। वे बहुत ही अच्छे निर्देशक हैं और आगे भी अच्छा काम करेंगे, ऐसा मेरा विश्वास है। कुकी जब टी सीरीज के माध्यम से स्क्रिप्ट लेकर मेरे पास आए तो मैंने सिर्फ नैरेशन सुना था और फिल्म करने के लिए हां बोल दिया। इस फिल्म की कहानी इतनी जबरदस्त है कि आपको देखने के बाद खुद ही पता चलेगा कि बॉलीवुड में ऐसी फिल्में बननी चाहिए।
  • आज बॉलीवुड में साउथ इंडस्ट्री से निर्मित फिल्मों व वहां से जुड़े कलाकारों का दायरा बढ़ता जा रहा है। इसे आप कैसे देखते हैं?
    देखिए साउथ इंडस्ट्री से निकलकर बॉलीवुड में आनेवाले कलाकार हों या फिर वहां से निर्मित होकर बॉलीवुड में रिलीज होनेवाली हिंदी फिल्में, यहां सिर्फ  कंटेंट चलता है। अगर आपकी कहानी में दम है तो कलाकार किसी भी इंडस्ट्री का क्यों न हो, आपकी फिल्म सफलता का परचम जरूर लहराएगी और आपकी कहानी में दम ही नहीं है तो फिर आप कलाकार किसी को भी रख लें कोई मायने नहीं रखता। दर्शकों को सिर्फ अच्छे कंटेंट चाहिए।
  • बॉलीवुड में आजकल बायकॉट नामक शब्द बहुत ट्रेंड कर रहा है। इसे आप कैसे देखते हैं?
    आप लोग ऐसे प्रश्न ही क्यों पूछते हो? जिनका कोई जवाब ही न दे सकें । मैं इस पर कुछ नहीं कह सकता, हमारी ऑडियंस सब जानती है।

अन्य समाचार