मुख्यपृष्ठखेल आउट ऑफ पैवेलियन : आंद्रे ने जेकोविच को दी मात

 आउट ऑफ पैवेलियन : आंद्रे ने जेकोविच को दी मात

अमिताभ श्रीवास्तव।  विंबल्डन से रूस के खिलाड़ियों को बैन कर देने के मामले में जेकोविच इस निर्णय के खिलाफ गए थे मगर रूस के ही खिलाड़ी ने उन्हें मात दे दी। रूस के आंद्रे रुबलेव ने दिग्गज नोवाक जोकोविच को हराकर सर्बिया ओपन टेनिस टूर्नामेंट जीत लिया। रुबलेव ने ६-२, ६-७, ६-० से फाइनल मुकाबला जीता। इस तरह उन्होंने सीजन का अपना तीसरा खिताब जीता। रूस के दूसरे वरीय खिलाड़ी ने सर्बिया के शीर्ष वरीय खिलाड़ी को एक बार फिर वापसी करने से रोका। जोकोविच को अब भी २०२२ के अपने पहले खिताब की तलाश है। जोकोविच ने अपने पिछले तीनों मुकाबले पहला सेट गंवाने के बाद वापसी करते हुए जीते थे। उन्होंने लास्लो जेयर, मियोमिर केसमानोविच और करेन खचानोव को हराकर अपने घरेलू टूर्नामेंट के फाइनल में जगह बनाई थी।

क्रिकेटर को आया हार्ट अटैक

मुंबई क्रिकेट खेमे को उस वक्त बड़ा झटका लगा, जब २००६-०७ रणजी विजेता टीम के सदस्य रहे राजेश वर्मा का दिल का दौड़ा पड़ने से निधन हो गया। वे महज ४० साल के थे। उन्होंने अपने निवास स्थान जो कि थाने में स्थित है अंतिम सांस ली। उन्होंने २००२-०२ से लेकर २००८-०९ सीजन तक ७ फर्स्ट क्लास मैच खेले और उनके खाते में २३ विकेट दर्ज हैं जिसमें एक बार उन्होंने ५ विकेट भी लिए थे। इसके अलावा उन्होंने ११ लिस्ट ए मैच में २० विकेट हासिल किए। टी-२० क्रिकेट की बात करें तो उन्होंने ४ टी-२० मैच खेले और उसमें कई विकेट हासिल किए। उनके निधन पर मुंबई क्रिकेट एसोसिएशन ने ट्विट के माध्यम से शोक जताया है। एमसीए के द्वारा ट्विट कर लिखा गया है कि मुंबई क्रिकेट संघ राजेश वर्मा के निधन के बारे में सुनकर बेहद दुखी है।

पहले दर्द दिया फिर किस किया

न,न किस का कोई हिसाब नहीं है। चुम्बन तो जोश का परिणाम है। जीत का जश्न है। मगर क्या कोई ऐसा करता भी है क्या कि पहले दर्द दो फिर चूम लो। कुणाल पंड्या और पोलार्ड के बीच का ये दृश्य बड़ा वायरल हो रहा है। कुणाल ने पोलार्ड का विकेट लेकर उन्हें क्यों चूमा? विकेट लेकर पोलार्ड को दुखी कर दिया फिर ऊपर से किस भी कर लिया। दरअसल, मुंबई को तीन झटके देने वाले सफल गेंदबाज कुणाल पंड्या को तब भी उत्साहित देखा गया, जब उन्होंने किरोन पोलार्ड का विकेट चटकाया। पोलार्ड मुंबई के लिए आखिरी ओवरों में एकमात्र उम्मीद थी, लेकिन उनका विकेट क्रुणाल ने निकाल लिया। क्रुणाल यह विकेट लेकर इतना खुश थे कि उन्होंने पैवेलियन की ओर लौटते पांड्या का माथा चूम लिया। मैच खत्म होने के बाद क्रुणाल ने इस पर बात भी की। उन्होंने कहा कि वास्तव में अच्छा लग रहा है, गेंदबाजी विभाग में कड़ी मेहनत की गई, योजना के अनुसार काम हुआ। वहीं क्रुणाल ने कहा कि मैं बहुत शुक्रगुजार था कि मुझे उनका (पोलार्ड) विकेट मिल गया। नहीं तो वह जीवनभर मेरा दिमाग खा जाते, क्योंकि उन्होंने मुझे एक बार आउट कर दिया था। अब १-१ हो गया है।

मेरे इनाम जुर्माने में चले जाते हैं

यह भी एक विडंबना है। अफसोस है कि किसी को कोई पुरस्कार मिले और उसे उस पुरस्कार में प्राप्त धनराशि से जुर्माना भरना पड़े। है न अजीब। ये अजीब बात लखनऊ टीम के कप्तान केएल राहुल के साथ है। मैच में कुछ न कुछ ऐसा हो जाता है कि उन पर जुर्माना लगा दिया जाता है। या तो वो ओवर टाइमिंग मिस कर देते हैं या कुछ हो जाता है। अब देखिए न २४ लाख का जुर्माना उन पर लगाया गया है। मुंबई के खिलाफ अपना तीसरा शतक बनाने वाले राहुल ने जीत हासिल की और रोहित शर्मा की अगुआई वाली टीम के बुरे हाल कर दिए। जीत के बाद मैन ऑफ द मैच बने राहुल ने कहा कि ‘मुझे मिलने वाली सभी ज्यादातर इनामी राशि जुर्माने के तौर पर भरपाई करनी होगी।’ ये भी एक दुःख है। मगर आईसीसी के नियम के आधार पर यदि धीमी गति के ओवर डाले गए हैं तो जुर्माना कप्तान पर ही लगाया जाता है। उनके मैच फीस से रकम काट ली जाती है।

(लेखक सम सामयिक विषयों के टिप्पणीकर्ता हैं। ३ दशकों से पत्रकारिता में सक्रिय हैं व दूरदर्शन धारावाहिक तथा डाक्यूमेंट्री लेखन के साथ इनकी तमाम ऑडियो बुक्स भी रिलीज हो चुकी हैं।)

अन्य समाचार