मुख्यपृष्ठखबरेंउपेक्षा से क्षुब्ध संविदाकर्मी ने लगाई एमएलसी चुनाव में छलांग! .... सुल्तानपुर...

उपेक्षा से क्षुब्ध संविदाकर्मी ने लगाई एमएलसी चुनाव में छलांग! …. सुल्तानपुर के दूबेपुर ब्लॉक पर तैनात संविदाकर्मी ने ठोंकी ताल

• गोरखपुर-अयोध्या स्नातक एमएलसी चुनाव 

विक्रम सिंह / सुल्तानपुर
आगामी ३० जनवरी को होनेवाले गोरखपुर-अयोध्या स्नातक क्षेत्र के एमएलसी चुनाव में सुल्तानपुर के एक संविदा विकासकर्मी ने ताल ठोंक प्रमुख दलों के खेमे में हड़कंप मचा दी है। संविदा कर्मी ने एमएलसी उम्मीदवार के पर्चा दाखिले के बाद मंगलवार को संवाददाता सम्मेलन में अपने पत्ते खोले। साथ ही सीधा आरोप मढ़ा कि संविदाकर्मियों की समस्याओं को लेकर किसी भी दल ने गंभीर रुख नहीं अपनाया। न ही सदन में ही उठाया। हमारा प्रमुख उद्देश्य है इस बाबत जागरूकता लाना व राजनीतिक लोगों को बेपर्दा करना।

मूलतः सुल्तानपुर शहर के निवासी विनीत श्रीवास्तव दूबेपुर ब्लॉक में संविदाकर्मी के पद पर तैनात हैं। वे कई वर्षों से संविदाकर्मियों को नियमित व स्थाई करने की लड़ाई लड़ रहे हैं। जब उन्हें राजनीतिक दलों से उपेक्षा मिली तो उन्हें चेताने के लिए खुद ही एमएलसी चुनाव में उतरने का फैसला कर लिया। मंगलवार को मीडिया से मुखातिब एमएलसी उम्मीदवार बालू ने अपना घोषणा पत्र जारी किया। कहा कि यूपी सरकार आउटसोर्सिंग भर्ती पर पूर्ण रोक लगाए। हरेक विभाग व योजना-परियोजना के संविदाकर्मियों को नियमित करे। पुरानी पेंशन योजना लागू हो। सरकारी बेसिक शिक्षकों को राज्यकर्मचारी का दर्जा दिया जाय व वकीलों पत्रकारों को दस लाख जीवन बीमा और पांच लाख का मेडिकल बीमा मिले।संविदाकर्मियों के लिये एचआरए पालिसी की व्यवस्था लागू की जाय। विदित हो कि एमएलसी चुनाव में सपा और भाजपा ने अपने अपने उम्मीदवार मैदान में उतार रखे हैं। सिटिंग एमएलसी देवेंद्र प्रताप सिंह १८ वर्षों से सदन में हैं। लगातार दूसरी बार वे बतौर भाजपा प्रत्याशी मैदान में हैं।

अन्य समाचार