मुख्यपृष्ठनए समाचारप्रगति की ओर कोस्टल रोड का एक और कदम, मुंबई को मिलेगी...

प्रगति की ओर कोस्टल रोड का एक और कदम, मुंबई को मिलेगी लगभग १०० हेक्टेयर जमीन! नवंबर तक पहला चरण पूरा होने का अनुमान, अब तक ७५ प्रतिशत काम पूर्ण कर लेने का दावा

सामना संवाददाता / मुंबई
युवासेना अध्यक्ष व विधायक आदित्य ठाकरे की बहुप्रितिक्षित मुंबई कोस्टल रोड परियोजना लगातार परवान चढ़ रही है। कोस्टल रोड परियोजना का ७५ प्रतिशत काम पूरा हो चुका है। मुंबई महानगरपालिका ने बताया कि मरीन ड्राइव से बांद्रा वर्ली सी-लिंक तक की पूरी परियोजना को मई, २०२४ से पहले पूरा करने का लक्ष्य है। मुंबई मनपा ने मरीन ड्राइव से प्रियदर्शिनी पार्क (मालाबार हिल) तक पहले चरण को पूरा करने की तैयारी में है। पहला चरण नवंबर तक पूरा करने का लक्ष्य है।
बता दें कि कोस्टल रोड परियोजना तीन चरणों में की जा रही है। परियोजना की लंबाई १०.५८ किमी है, जिसमें मरीन ड्राइव से प्रियदर्शिनी पार्क पहले चरण, प्रियदर्शिनी पार्क से लोगरो नाला दूसरे चरण और लोगरो नाला से वर्ली सी-लिंक शामिल है। मुंबई कोस्टल रोड परियोजना के माध्यम से ९६.५१ हेक्टेयर नई भूमि उपलब्ध होगी। उस जगह का लगभग ७० हेक्टेयर हिस्सा हरित स्थानों, साइकिल ट्रैक, जॉगिंग पार्क आदि के लिए उपलब्ध होगा।
यात्रा होगी तेज
पहले चरण में प्रियदर्शिनी से मरीन ड्राइव तक साढ़े तीन किलोमीटर लंबी सुरंग भी चालू की जाएगी। तो कुल मिलाकर वर्ली सी-फेस से मरीन ड्राइव तक की यात्रा, जिसमें अभी आधे घंटे का समय लगता है, इसे पूरा करने में मात्र दस से पंद्रह मिनट लगेंगे। इस सुरंग की यात्रा करीब तीन से चार मिनट में पूरी हो जाएगी। इस सुरंग से ६० से ८० प्रति घंटे की रफ्तार से वाहन गुजर सकते हैं। फिलहाल इस सुरंग में कंक्रीटिंग के काम के साथ-साथ आग से बचाव के उपाय भी किए जा रहे हैं। इसमें फायरप्रूफ फायर बोर्ड लगाए जा रहे हैं। इसके पहले चरण का काम नवंबर में पूरा होगा।
आर्टिफिशियल रीफ का प्रयोग
कोस्टल रोड प्रोजेक्ट के लिए ८ लाख ८० हजार क्यूबिक मीटर यानी १ लाख ४० हजार ट्रक मिट्टी डंप किए गए हैं, जिससे बड़ी ९६.५१ हेक्टेयर नई भूमि उपलब्ध होगी। परियोजना के सीआरजेड अनुमोदन में उल्लेख किया गया है कि जैव विविधता के संरक्षण और विकास के लिए एक कृत्रिम चट्टान (आर्टिफिशियल रीफ) का निर्माण, मतलब कि नगर निगम ने जैव विविधता को संरक्षित करने के लिए ‘आर्टिफिशियल रीफ’ (कृत्रिम चट्टान) का प्रयोग शुरू किया है। यह समुद्र तट पर समुद्री जीवन के लिए आवास प्रदान करेगा और उन्हें बढ़ने या प्रजनन करने में मदद करेगा। साथ ही मुंबई कोस्टल रोड प्रोजेक्ट में मरीन ड्राइव प्रियदर्शनी से वर्ली सी-फेस तक पहले चरण के एक किलोमीटर के हिस्से में समुद्री तट पर १३ हजार ३०० नए कंक्रीट के टेट्रापॉड लगाए जाएंगे।

अन्य समाचार

लालमलाल!