मुख्यपृष्ठअपराधअंतर्वेग : कर्ज से मुक्ति के लिए पति का सिर कलम किया!

अंतर्वेग : कर्ज से मुक्ति के लिए पति का सिर कलम किया!

नागमणि पाण्डेय

उत्तर प्रदेश के कुशीनगर जिले के विशुनपुरा थाना क्षेत्र के तिलकापट्टी गांव के शर्मा निषाद की पांच जनवरी को धारदार हथियार से गला काटकर हत्या कर दी गई थी। पुलिस की जांच में इस मामले का सनसनीखेज खुलासा हुआ है। इस मामले में आरोपी पत्नी पूनम को पुलिस ने गिरफ्तार किया है। पत्नी ने कर्ज से मुक्ति पाने के लिए शराबी पति का सिर कलम कर मायके भाग गई थी।
५ जनवरी को उत्तर प्रदेश के विशुनपुरा पुलिस स्टेशन अंतर्गत आने वाले तिलकापट्टी के रहने वाले शर्मा निषाद पुत्र कृपाल की हत्या हो गई थी। गांव के नहर किनारे बने झोपड़े में शर्मा का शव मिला था। इसी झोपड़ी में शर्मा अपनी पत्नी और बच्चों के साथ रहता था। पांच महीने पहले ही शर्मा शहर से कमाकर वापस लौटा था। इस बीच घटना से एक दिन पहले उसकी पत्नी बच्चों के साथ मायके जुगनी गांव चली गई थी। शर्मा निषाद रात में भोजन करके सो गया था। शनिवार सुबह करीब ८ बजे उसके छोटे भाई की पत्नी जगाने गई तो पैर की तरफ से शरीर बोरी से ढका मिला। उसका शरीर खून से लथपथ देखकर भाई की पत्नी ने शोर मचाते हुए ससुर और घर वालों को बुलाया। इसके बाद इसकी सूचना पुलिस को दी गई। इस सूचना के बाद विशुनपुरा पुलिस थाने की पुलिस और सायबर सेल की संयुक्त टीम ने मौके पर पहुंचकर शव को कब्जे में लेकर मामला दर्ज कर जांच शुरू किया।
कर्ज लेकर पी गया शराब
पुलिस को प्राथमिक जानकारी मिली कि शर्मा निषाद शराबी था। नशे के लिए उसने अपनी पत्नी के माध्यम से एक वर्ष में अलग- अलग आठ माइक्रोफाइनेंस कंपनियों से कुल ३ लाख ७६ हजार ९०७ रुपए कर्ज निकालकर शराब पी गया। इसके अलावा पत्नी के जेवर भी गिरवी रख दिए थे। पत्नी जब कर्ज लेने से मना करती तो वह उसे मारता-पीटता था। पांच जनवरी को भी सुबह करीब पांच बजे शर्मा ने पत्नी पूनम से शराब पीने के लिए पैसे मांगे थे। पैसा न होने के बावजूद वह किसी से उधार लेकर शराब पीकर आया और घर में रखा दाव (एक तरह का हथियार) लेकर पत्नी को काटने के लिए दौड़ाया। आस-पास के लोग किसी तरह बीच-बचाव कर पूनम की जान बचाई और अपने घर ले गए।
पत्नी ने बनाई हत्या की योजना
पुलिस ने बताया कि पूनम ने घर जाकर किसी तरह खाना बनाया और पति शर्मा निषाद को मंजन करने के लिए ब्रश दिया। उसने ब्रश फेंक दिया और कहा कि जब तक तुझे काट नहीं डालेगा, तब तक खाना नहीं खाएगा। यह सुनकर पूनम दहशत में आ गई और बच्चों के भविष्य को लेकर खतरनाक प्लान बना बैठी। पूनम ने पुलिस को बताया कि उसे अपने बच्चों के पालन-पोषण की फिक्र थी। ऐसे में उसने सोचा कि अगर वह अपने पति को मार देती है तो उसका कर्ज भी माफ हो जाएगा तथा बच्चों को मजदूरी करके पालन-पोषण कर लेगी। पांच जनवरी की रात शर्मा अपनी झोपड़ी में तख्त पर शराब के नशे में बगल में दाब रखकर सो गया। पूनम ने उसी दाब से प्रहार करके गर्दन काट दी और जो थोड़ा धड़ बचा उसे पास में रखे हंसिए से खींच दिया, जिससे गर्दन पूरी तरह कट गई। इसके बाद बच्चों को लेकर अपने मायके सेवरही थाना क्षेत्र के ग्राम जोगनी चली गई। इस मामले में अब पुलिस ने उसे गिरफ्तार कर लिया है। साथ ही पुलिस ने हत्या के इस्तेमाल हथियार और मोबाइल भी जब्त कर लिया है।

अन्य समाचार