मुख्यपृष्ठनए समाचारअंतर्वेग: मुर्दा हत्यारा जिंदा!

अंतर्वेग: मुर्दा हत्यारा जिंदा!

नागमणि पांडेय

कभी-कभी ऐसी घटना सामने आ जाती है, जिस पर भरोसा करना मुश्किल लगता है। यदि आपसे कोई कहे कि एक मुर्दे को पुलिस ने गिरफ्तार किया है तो आपको हंसी आ जाएगी और कहेंगे कि ये मुझे मूर्ख बना रहा है या पुलिस ने कुछ गड़बड़ किया है, लेकिन ये सच है। मुंबई की कांदिवली पुलिस ने २० वर्ष पहले हुई एक हत्या के मामले में हत्यारे मुर्दे को गिरफ्तार किया है। दरअसल, बात ये है कि पुलिस हत्या के आरोपी को मुर्दा मानकर फाइल बंद कर चुकी थी। पुलिस को उसी मुर्दा हत्यारे को जिंदा गिरफ्तार कर एक बार फिर हत्या की फाइल खोलनी पड़ी है। पता चला है कि हत्यारा नाम बदलकर नालासोपारा में रहता था। पुलिस के अनुसार, हत्यारे के खिलाफ वर्ष १९९२ में हत्या का मामला दर्ज कर गिरफ्तार किया गया था। आरोपी के खिलाफ दिंडोशी कोर्ट मे सुनवाई चल रही थी। जमानत पर रिहा होने के बाद आरोपी वर्ष २००३ तक लगातार कोर्ट में तारीख पर हाजिर होता रहा, लेकिन उसके बाद अचानक आना बंद कर दिया। इसके बाद कोर्ट ने आरोपी को फरार घोषित किया तो पुलिस ने आरोपी को मृत समझकर फाइल बंद कर दिया था। इसी बीच कांदिवली पुलिस स्टेशन के पीएसआई नितिन साटम को जानकारी मिली की हत्या के मामले में पिछले २० वर्षों से फरार आरोपी नालासोपारा में नाम बदलकर रह रहा है। इसके बाद पुलिस ने जाल बिछाकर आरोपी को नालासोपारा से हिरासत में लिया और पूछताछ की तो उसने अपना पहचान उजागर किया। अब उसके गुनाह की फाइल फिर खुलेगी।

अन्य समाचार