मुख्यपृष्ठनए समाचारअवैध निर्माण को रोकेगा ऐप!... ढाई करोड़ रुपए खर्च करके बना रही...

अवैध निर्माण को रोकेगा ऐप!… ढाई करोड़ रुपए खर्च करके बना रही सिडको

-१,१०० से अधिक अवैध निर्माण कार्यों की पहचान

सामना संवाददाता / नई मुंबई

लंबे समय से अवैध निर्माण और अतिक्रमणों से जूझता सिटी एंड इंडस्ट्रियल डेवलपमेंट कॉरपोरेशन पहली बार अवैध निर्माणों पर शिकंजा कसने के लिए मॉडर्न तकनीक का उपयोग करने जा रहा है। तेजी से पनप रहे अवैध निर्माणों से निपटने के लिए सिडको प्रशासन वेब-आधारित एप्लिकेशन विकसित करने के लिए लगभग ढाई करोड़ खर्च करेगा। सिडको के अंतर्गत आने वाले क्षेत्र, विशेष रूप से नई मुंबई हवाई अड्डे के तहत और आस-पास के इलाके नैना में २०० से अधिक गांव शामिल हैं। सिडको का मानना है कि इन इलाकों के डेवलपमेंट के दौरान अवैध निर्माण भी बढ़ेंगे, जिन पर नजर रखना मैन्युअली संभव नहीं होगा।
सिडको विकसित कर रहा एप्लिकेशन
मुख्य सतर्कता अधिकारी सुरेश मेंगाडे के अनुसार, सिडको प्रशासन के अंतर्गत आनेवाले इलाकों में हुई बढ़ोतरी के चलते ऐसी तकनीकी की जरूरत महसूस की जा रही थी, जिससे बटन दबाते ही अवैध निर्माण नवीन अतिक्रमण के बारे में जानकारी मिल सके और संबंधित अधिकारियों की जवाबदेही तय की जा सके। सिडको प्रशासन के संयुक्त प्रबंध निदेशक राजेश पाटील के अनुसार, सिडको जिस एप्लिकेशन को विकसित करने की योजना बना रहा है, उसके हाई रिजॉल्यूशन सैटेलाइट इमेजरी की मदद से व्यापक क्षेत्र-आधारित अध्ययन करने में अधिकारियों को मदद मिलेगी।
१,१५९ अवैध निर्माण कार्यों की पहचान
एक रिपोर्ट के अनुसार, १ अगस्त २०२२ से ३० जून २०२३ के बीच नेरुल, कोपरखैरने, वाशी, घणसोली, सानपाड़ा, ऐरोली, बेलापुर, खारघर, कामोठे, कलंबोली, उरण, उलवे, तलोजा, पुष्पक, करंजदे और द्रोणगिरि जैसे इलाकों में कुल १,१५९ अवैध निर्माण कार्यों की पहचान की गई है।
कार्रवाई करने में होती है आसानी
सिडको प्रशासन का मानना है कि उसके पास सतर्कता दस्तों की टीम है, जो लगातार नोड्स का दौरा करती है और प्रत्येक क्षेत्र में चल रहे निर्माण कार्य का सत्यापन करती है। इसके अतिरिक्त, अतिक्रमण या अनधिकृत निर्माण के बारे में व्यक्तिगत शिकायतें भी की जाती हैं, जिनका फिर से अधिकारियों द्वारा निरीक्षण किया जाता है और इसमें समय लगता है, विश्लेषण को नई उन्नत तकनीकी का इस्तेमाल के चलते कम समय में अधिक आउटपुट मिल पाएगा, जिससे कार्रवाई करने में आसानी होगी।
पुरानी और नई तस्वीरों को किया जाएगा इम्पोज
आईटी विभाग के एक वरिष्ठ अधिकारी का कहना है कि सिडको प्रशासन के पास पहले से ही पुराने नक्शे हैं और अब अगले कुछ महीनों के लिए उन्हीं क्षेत्रों की ताजा तस्वीरें सरकार से खरीदी जाएंगी। फिर इन तस्वीरों को सुपर इम्पोज किया जाएगा और एप्लिकेशन के माध्यम से अधिकारी इमेजरी का अध्ययन करेंगे, ताकि निर्माण कार्यों की जमीनी हकीकत को समझ सकें और उचित कार्रवाई कर सकें।

अन्य समाचार