मुख्यपृष्ठनए समाचारयूपी से गिरफ्तार, देश का गद्दार! ...आईएसआई को भेजी राफेल की फोटो

यूपी से गिरफ्तार, देश का गद्दार! …आईएसआई को भेजी राफेल की फोटो

•देश को दहलाने की साजिश

सामना संवाददाता / लखनऊ 
एसटीएफ की टीम ने एक बार फिर से आईएसआई के सदस्यों की साजिश को नाकाम कर दिया है। एसटीएफ की टीम ने शामली से आईएसआई के सदस्य को गिरफ्तार किया है। वहीं आरोपी ने पूछताछ में चौंकाने वाले खुलासे किए हैं। एसटीएफ मेरठ के एएसपी बृजेश कुमार सिंह ने बताया कि पिछले कुछ समय से सूचना मिल रही थी कि यूपी का एक गिरोह पाकिस्तान आतंकी संगठन से मिल कर एक आपराधिक षड्यंत्र के तहत अवैध असलहों को एकत्र कर भारत देश की एकता, अखंड़ता, संप्रभुता और सामाजिक सौहार्द को बिगाड़ने, भारत की आंतरिक व बाह्य सुरक्षा को क्षति पहुंचाने के लिए किसी बड़ी वारदात को अंजाम देने की फिराक में है। सूत्रों के अनुसार, कलीम देश में जिहाद पैâलाने के लिए लोगों को भड़काता था। उसकी प्लानिंग भारत में मुजाहिद्दीन की जमात बनाने की थी। यही नहीं, वह देश में दंगा भड़काने की साजिश रच रहा था। कलीम सेना के बेस वैंâप के पास जाकर लोकेशन और सेना के जवानों के फोटो क्लिक करता था। फिर उसे व्हाट्सएप से पाकिस्तान भेजता था। उसने राफेल की फोटो खींचकर भेजी थी।
देश को दहलाने की साजिश
मुखबिर से मिली सूचना के आधार पर एसटीएफ ने छह दिन पहले ही पाकिस्तान की जेल से छूटकर आए शामली के नोकुआं के रहने वाले नफीस के बेटे कलीम को हिरासत में लेकर पूछताछ की तो उसने खुद को आईएसआई आतंकी संगठन से जुड़े होने की बात स्वीकार की। जांच में सामने आया है कि कलीम अपने भाई तहसीम के साथ आईएसआई के सदस्यों को व्हाट्सऐप पर भारत सेना के फोटोग्राफ भेजे थे। प्राप्त मोबाइल नंबरों का आईपी एड्रेस भी लाहौर शहर का पाया गया। वहीं जांच में पाया गया कि कुछ व्यक्तियों का समूह अलग-अलग शहरों में आपराधिक षड््यंत्र के तहत आम जनता पर अवैध हथियारों से हमले की योजना के उद्देश्य से काम कर रहा है। यही नहीं, लोगों को हिन्दुस्थान में जिहाद पैâलाने के प्रति प्रेरित किया जा रहा है। आरोपी भारत में मुजाहिद्दीन की जमात बनने की तैयारी में थे।
आईएसआई ने दिया था रुपयों का लालच
पूछताछ में पता चला है कि आरोपी कलीम अक्सर पाकिस्तान जाता रहता था। उसकी आईएसआई के कुछ हैंडलरों और सदस्यों से जान पहचान थी। रुपयों का लाल च देकर आईएसआई ने उसे फंसा लिया था। आईएसआई ने कहा था कि तुम्हें हथियार, गोला बारूद दिया जाएगा। भारत के विभिन्न स्थानों पर दंगा कराओ ताकि भारत में शरीयत कानून के तहत इस्लामिक राष्ट्र बनाया जा सके।

आतंकवादी से बात करता था आरोपी
जांच में सामने आया है कि आरोपी कलीम पाकिस्तान के आतंकवादी दिलशाद मिर्जा से बात करता था। व्हाट्सऐप चैट के माध्यम से बात की जाती थी। उसी के निर्देश पर कलीम के भाई तहसीम ने भारतीय सेना के स्थलों के फोटो दिलशाद को भेजे थे। अधिकारियों का कहना है कि गिरोह के फरार सदस्यों की तलाश में दबिश दी जा रही है। जल्द ही फरार सदस्यों को भी गिरफ्तार कर लिया जाएगा।

कलीम के मोबाइल से मिले उर्दू मैसेज के ट्रांसलेशन
हुजूर अकरम सल्लाहुअलैहिवसल्लम ने रात के वक्त मुजाहिद्दीन को एक दस्ते की रवानगी का हुक्म फरमाया।
रसूल .. ने इरशाद फरमाया अगर तू रात को कायम करें।
मुस्कराते जख्म।
पैसे, लफ्ज व तहरीकी जिंदगी।
उसकी चक्की चल रही है।

अन्य समाचार