मुख्यपृष्ठनए समाचारजितने ठाणेकर उतने वाहन! ... फिर भी प्रदूषण मुक्त शहरों में ठाणे...

जितने ठाणेकर उतने वाहन! … फिर भी प्रदूषण मुक्त शहरों में ठाणे तीसरे स्थान पर

सामना संवाददाता / ठाणे
ठाणे शहर की आबादी करीब २५ लाख है और यहां वाहनों की संख्या करीब २३ लाख है। शहर में चल रहे विकास कार्यों, वायु प्रदूषण, ध्वनि प्रदूषण के कारण हवा की गुणवत्ता, मानक से नीचे चली गई है। वर्तमान में, शहर की वायु गुणवत्ता ‘मध्यम प्रदूषित’ श्रेणी में आती है। इसके बावजूद केंद्र के स्वच्छता सर्वेक्षण में ठाणे मनपा ने तीसरा स्थान हासिल किया है। ऐसे में अब ठाणेकर सवाल कर रहे हैं कि ठाणे शहर में प्रदूषण इतना अधिक होने के बावजूद ठाणे मनपा ने तीसरा स्थान कैसे हासिल किया?
बता दें कि केंद्र सरकार द्वारा प्रदूषण को पस्त करने के लिए मनपा द्वारा किए गए उपायों के लिए उन्हें पुरुष्कृत कर सम्मानित करती है। इसके लिए केंद्र सरकार की एक टीम ठाणे शहर का निरीक्षण कर रिपोर्ट ले गई थी। हाल ही में केंद्र सरकार द्वारा परिणाम की घोषणा की गई है, जिसमें ठाणे मनपा ने तीसरा स्थान हासिल किया हैं, जबकि ठाणे शहर में वायु प्रदूषण निश्चित मानक से भी निचले स्तर पर आ पहुंचा है। इस वजह से क्या मनपा को यह पुरस्कार सच में मनपा द्वारा की गई उपाययोजनाओं की वजह से मिला है या फिर किसी के दबाव में यह पुरस्कार मनपा को मिला है, ऐसा बड़ा सवाल ठाणेकर करते नजर आ रहे हैं। वहीं ठाणे मनपा प्रशासन का कहना है कि प्रशासन द्वारा किए गए कार्यों के कारण ही यह सम्मान ठाणे मनपा को मिला है।
शमशानों का अत्याधुनिकीकरण
ठाणे मनपा अंतर्गत ३७ शमशान हैं। इन्हें चरणबद्ध तरीके से प्रदूषण मुक्त किया जाएगा। तद्नुसार, वागले के शमशान में गैस दाह संस्कार शुरू किया गया है। जवाहरबाग में चार और मोघरपाड़ा में एक है। अगले चरण में माजीवाड़ा, बालकुम, पालदे के लिए टेंडर निकाले गए हैं। साथ ही पांच और शमशानों का काम शुरू किया जाएगा।
यूं मिला पुरस्कार
केंद्र की ओर से २०२३-२४ के तहत स्वच्छ वायु सर्वेक्षण अभियान चलाया गया था, इसमें १३१ शहरों ने हिस्सा लिया। दस लाख से अधिक जनसंख्या की श्रेणी में ठाणे को तीसरा स्थान मिला। मनपा के स्वच्छ वायु कार्ययोजना के क्रियान्वयन हेतु चरणबद्ध तरीके से केंद्र द्वारा स्वीकृत १८० करोड़ का अनुदान मनपा को प्राप्त हो रहा है। प्रथम चरण में प्राप्त धनराशि से १२३ बसें खरीदी की जा रही हैं। २३ बसें उपलब्ध कराई गई हैं। कुल ३०२ बसें ली जाएंगी। दूसरे चरण में ४२ बसों का टेंडर निकाला जाएगा।

अन्य समाचार