मुख्यपृष्ठसमाचारसरकार बनते ही मुख्यमंत्री के बदले सुर... नहीं हुआ इलेक्ट्रिक बसों की...

सरकार बनते ही मुख्यमंत्री के बदले सुर… नहीं हुआ इलेक्ट्रिक बसों की खरीद में भ्रष्टाचार!

  • सीएम ने सदन में किया स्वीकार

सामना संवाददाता / मुंबई
महाविकास आघाड़ी सरकार के कार्यकाल में मनपा तथा राज्य की हर परियोजना में तत्कालीन विरोधी दल भाजपा को भ्रष्टाचार दिखाई देता था। पर अब राज्य में ‘ईडी’ सरकार के बनते ही सभी भ्रष्टाचार समाप्त हो गए हैं। यहां तक कि सरकार बनते ही मुख्यमंत्री के सुर भी बदल गए और वे भाजपा की हर बात में हां में हां मिला रहे हैं। अब मुख्यमंत्री ने कहा है कि इलेक्ट्रिक बसों की खरीद में कोई भ्रष्टाचार नहीं हुआ है।
विधानसभा में पूछे गए एक लिखित सवाल के जवाब में मुख्यमंत्री एकनाथ शिंदे ने स्वीकार किया है कि बेस्ट प्रशासन का कहना है कि मुंबई मनपा की तरफ से इलेक्ट्रिक बस खरीदी की निविदा प्रक्रिया में कोई भ्रष्टाचार नहीं हुआ है। विधायक अमित साटम व नितेश राणे के एक लिखित सवाल के जवाब में मुख्यमंत्री ने कहा कि बेस्ट प्रशासन का कहना है कि निविदा प्रक्रिया में केंद्रीय सतर्कता आयोग की गाइडलाइन का उल्लंघन नहीं हुआ है।

अन्य समाचार