मुख्यपृष्ठसमाचारकिसानों को कुचलने का आरोपी आशीष मिश्र ने सरेंडर किया

किसानों को कुचलने का आरोपी आशीष मिश्र ने सरेंडर किया

मनोज श्रीवास्तव / लखनऊ।  लखीमपुर खीरी केस में मुख्य आरोपी आशीष मिश्रा ने लखीमपुर कोर्ट में सरेंडर कर दिया। सुप्रीम कोर्ट ने आशीष मिश्रा को पिछले हफ्ते में सरेंडर करने को कहा था। सुप्रीम कोर्ट ने यह भी कहा था कि इलाहाबाद हाईकोर्ट जमानत पर आदेश देते समय पीड़ित पक्ष को नहीं सुना। आशीष मिश्रा की जमानत रद्द करते हुए सुप्रीम कोर्ट ने आदेश में कहा कि हाईकोर्ट ने जमानत पर आदेश देते समय गैर जरूरी चीजों पर ध्यान दिया, अहम सबूतों को नजरअंदाज किया, केस की मेरिट पर गौर किया, बेल पर सुनवाई में इसकी जरूरत नहीं थी, हाईकोर्ट ने जमानत देने में जल्दबाजी की। सुप्रीम कोर्ट ने यह भी आदेश दिया था कि आशीष मिश्रा को 26 अप्रैल से पहले सरेंडर करना होगा। दो महीने पहले कोर्ट का फैसला आशीष मिश्रा के पक्ष में था, लेकिन अब दो महीने बाद अचानक से सीन बदल गया है। सुप्रीम कोर्ट ने इलाहाबाद हाईकोर्ट से आशीष मिश्रा जमानत पर दोबारा सुनवाई करने को कहा, सुप्रीम कोर्ट ने कहा हाई कोर्ट मामले में तेजी से सुनवाई करे और 3 महीने में फैसला सुनाने की कोशिश करें। पक्षकारों की तरफ से वकील दुष्यंत दवे ने आग्रह किया कि हाईकोर्ट के मुख्य न्यायाधीश ने सुप्रीम कोर्ट से कहा है कि इस बार किसी अन्य पीड़ित के सामने आशीष मिश्रा की जमानत याचिका पर लगाया जाए। मुख्य न्यायाधीश ने इस पर कहा कि ऐसा आदेश पारित करना उचित नहीं होगा हमें यकीन है कि वह जब दोबारा इस मामले को सुनना भी नहीं चाहेंगे।

बता दें कि पिछले हफ्ते मामले की सुनवाई के दौरान उत्तर प्रदेश सरकार की तरफ से वरिष्ठ वकील महेश जेठमलानी ने कहा कि हमारा स्टैण्ड वही है जो इलाहाबाद हाई कोर्ट में आशीष मिश्रा की जमानत याचिका के समय था। हमने हाई कोर्ट में आशीष मिश्रा की जमानत का विरोध किया था। यूपी सरकार ने सभी गवाहों को सुरक्षा प्रदान किया है। गवाहों की जान को कोई खतरा नहीं है। हमने गवाहों से संपर्क किया है। याचिकाकर्ता की तरफ से वरिष्ठ वकील दुष्यंत दवे ने कहा था कि इलाहाबाद हाई कोर्ट के आशीष मिश्रा के जमानत के फैसले को रद्द किया जाए। हाई कोर्ट प्रसांगिक तथ्यों पर विचार नहीं किया था।

अन्य समाचार