मुख्यपृष्ठनए समाचार`आदर्श' से तय हुआ अशोक चव्हाण का भविष्य? दो दिनों में तस्वीर...

`आदर्श’ से तय हुआ अशोक चव्हाण का भविष्य? दो दिनों में तस्वीर हो जाएगी साफ, भाजपा प्रवेश की जोरदार चर्चाएं, कुछ पूर्व-भूतपूर्व विधायकों के साथ कर सकते हैं दूसरी पार्टी में एंट्री

सामना संवाददाता / मुंबई
कांग्रेस के वरिष्ठ नेता और पूर्व मुख्यमंत्री अशोक चव्हाण कल भारतीय जनता पार्टी के जाल में फंस गए। आदर्श घोटाले के दबाव में उन्होंने कांग्रेस का हाथ छोड़ा है। उन्होंने कल अपनी विधानसभा सदस्यता से इस्तीफा दे दिया। इसके साथ ही कांग्रेस वर्किंग कमेटी और पार्टी की प्राथमिक सदस्यता भी छोड़ दी। ऐसी चर्चा जोरों पर है कि अशोक चव्हाण भाजपा में शामिल हो रहे हैं और इसमें उन्हें कांग्रेस के कई पूर्व-भूतपूर्व विधायकों का साथ मिल रहा है।

ताकत से लड़ेंगे और हराएंगे -नाना पटोले
यह दुर्भाग्यपूर्ण है कि अब तक सबकुछ हासिल करनेवाले नेता कांग्रेस पार्टी और उसकी विचारधारा को छोड़ रहे हैं, जबकि कांग्रेस पार्टी संविधान और लोकतंत्र को बचाने के लिए लड़ रही है। कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष नाना पटोले ने कहा कि हम सभी कांग्रेस पार्टी के निष्ठावान कार्यकर्ता कांग्रेस की सोच और लोकतंत्र को बचाने के लिए पूरी ताकत से कट्टरता, तानाशाही प्रवृत्तिवाली भारतीय जनता पार्टी के खिलाफ लड़कर उसे हराएंगे।
मैं कहीं नहीं जाऊंगा -विजय वडेट्टीवार
अशोक चव्हाण के इस्तीफे पर विपक्ष के नेता विजय वडेट्टीवार ने भी प्रतिक्रिया दी। उन्होंने कहा कि अशोक चव्हाण का इस्तीफा चौंकानेवाला है। मुझे नहीं पता कि उन्होंने अचानक ऐसा पैâसला क्यों लिया। इस पर मुझसे चर्चा नहीं की। मैंने साल २००७ से उनके साथ काम किया है। मेरे उनके साथ सौहार्दपूर्ण संबंध हैं। इसलिए ऐसी अफवाहें हैं कि मैं भी जा रहा हूं, लेकिन इसमें कोई सच्चाई नहीं है। वडेट्टीवार ने यह भी विश्वास व्यक्त किया कि जिस तरह से भाजपा दलों को तोड़ने और लोगों को भगाने का काम कर रही है, उसे लेकर लोगों के दिलों में आक्रोश है और मतदाता भाजपा को आगामी चुनावों में सबक सिखाएंगे।

अन्य समाचार