मुख्यपृष्ठनए समाचारअटल सेतु नाम, भाजपा के प्रचार के लिए आया काम ...एमएमआरडीए अधिकारियों...

अटल सेतु नाम, भाजपा के प्रचार के लिए आया काम …एमएमआरडीए अधिकारियों पर उठे सवाल, कैसे दी प्रमोशन कैंपेन शूट की अनुमति

परियोजना संबंधित जानकारी देने से कतरा रहे थे अधिकारी
सामना संवाददाता / मुंबई
साउथ एक्ट्रेस रश्मिका मंदाना ने हाल ही में अटल सेतु यानी मुंबई ट्रांस हार्बर मार्ग के काम की तारीफ की है। इस पुल पर सफर के दौरान उन्होंने एक मीडिया को इंटरव्यू दिया। इस इंटरव्यू में वे भाजपा की तारीफ करती नजर आ रही हैं। लोकसभा चुनाव शुरू होने के पहले एमएमआरडीए अधिकारियों द्वारा जानकारी नहीं देने के लिए लोकसभा चुनाव का बहाना दिया जा रहा था, लेकिन चुनाव के दौरान अटल सेतु पर पूरी तैयारी और इक्युपमेंट के साथ एक अभिनेत्री के साथ प्रमोशन कैंपेन शूट किया गया है। अधिकारियों द्वारा चुनाव के वक्त इसकी अनुमति देने में किसी भी प्रकार की परेशानी नहीं हुई है, लेकिन अन्य परियोजना की जानकारी नहीं दी गई।
बता दें कि एमएमआरडीए द्वारा यह पहली बार नहीं किया जा रहा है। इससे पहले भी मुंबई ट्रांस हार्बर लिंक के उद्घाटन होने से पहले कई मीडिया और पत्रकारों द्वारा ड्रोन और अन्य वीडियो के लिए परमिशन मांगी गई, लेकिन एमएमआरडीए ने नहीं दी। उद्घाटन के कुछ दिन पहले सोशल मीडिया इनफ्लुएंसर को ब्रिज की परमिशन दी गई। रश्मिका का यह वीडियो वायरल होने के बाद कई लोगों ने रश्मिका पर पेड प्रोमोशन करने का आरोप लगाया, इसे लेकर शिवसेना (उद्धव बालासाहेब ठाकरे) नेता व युवासेनाप्रमुख आदित्य ठाकरे ने कलाकारों को सलाह देते हुए कहा कि प्रोमोशन करने से पहले वे पैâक्ट चेक करें। आदित्य ठाकरे ने यह विज्ञापन देखकर कलाकारों को सलाह दी है। आदित्य ठाकरे ने सोशल मीडिया एक्स पर एक पोस्ट शेयर कर रश्मिका द्वारा किए गए कुछ दावों को गलत बताते हुए उनकी सच्चाई भी सामने रखी है।

यह है सच्चाई
आदित्य ठाकरे ने कहा कि मैंने हाल ही में मुंबई ट्रांस हार्बर लिंक पर एक कलाकार का विज्ञापन देखा (शायद इसका भुगतान किया गया हो)। यहां मैं कुछ महत्वपूर्ण बिंदु प्रस्तुत कर रहा हूं, जिनका उल्लेख इस विज्ञापन में नहीं है। पहला यह है कि अटल सेतु-मुंबई ट्रांस हार्बर लिंक का ८५ प्रतिशत काम जून २०२२ से पहले ही पूरा हो चुका था, इसका जो भी काम हुआ वह महाविकास आघाड़ी सरकार के दौरान हुआ। दूसरा शेष १५ प्रतिशत काम पूरा करने में भाजपा के नेतृत्व वाली खोके सरकार को २०२२ से २०२४ तक दो साल लग गए। इसके बाद जान-बूझकर इस मार्ग के लोकार्पण में देरी की गई। तीसरा यह कि इसके पूरा होने के तीन महीने बाद मुंबई ट्रांस हार्बर लिंक का उद्घाटन किया गया।

अन्य समाचार