मुख्यपृष्ठनए समाचारअतीक ने दी एटीएस टीम को धमकी! ... एक बार छूटने दो,...

अतीक ने दी एटीएस टीम को धमकी! … एक बार छूटने दो, गद्दी की गर्मी क्या होती है बता दूंगा-मूंछों पर ताव देकर बोला अतीक!

मनोज श्रीवास्तव/लखनऊ। तीर्थराज प्रयागराज को अपने आतंक से दहलाने वाला माफिया अतीक अहमद बेटे असद की मौत के बाद भी टूटता नहीं दिखा। जो खबरें आ रही हैं उनके अनुसार अतीक अहमद ने पूछताछ में आंखें दिखाते हुए मुंछों पर ताव देकर एटीएस टीम को धमकाया। उसने कहा कि एक बार छूटने दो, ️मेरे बेटे को किन पुलिसवालों ने गोली मारी, ️गद्दी की गर्मी क्या होती है मैं बता दूंगा। यूपी एटीएस उमेश हत्याकांड को लेकर शुक्रवार को अतीक और उसके भाई अशरफ से प्रयागराज के धूमनगंज थाने में जमीन पर बोरे पर बैठाकर दोनों से सवाल-जवाब हुए। इस दौरान अतीक बार-बार बेटे असद का आखिरी बार चेहरा दिखाने और जनाजे में ले जाने के लिए गिड़गिड़ाता रहा। कहने लगा कि मेरी पत्नी शाइस्ता से मुझे मिलवा दो। जब यूपी एटीएस ने एक ही सवाल दोबारा पूछा तो माफिया अतीक अपनी आंखे तरेरने लगा। जिस थाने में कभी उसके मर्जी से तैनाती होती थी उसी धूमनगंज थाने में एटीएस ने अतीक और उसके भाई अशरफ अहमद से उमेश हत्याकांड को लेकर बोरे पर बैठाकर पूछताछ किया। अतीक ने कबूलना में बताया कि साबरमती जेल से बैठकर उसने उमेश की मौत का षडयंत्र रचा था, जिसे बेटे असद से एग्जीक्यूट किया। सूत्रों से एक और अहम जानकारी मिली है। बताया गया है कि पत्नी शाइस्ता 11 अप्रैल तक अतीक अहमद के संपर्क में थी। इस दौरान अतीक साबरमती जेल में था और शाइस्ता से उसका संपर्क लगातार बना हुआ था।

हत्याकांड के लिए अतीक ने पत्नी शाइस्ता परवीन से नया मोबाइल और सिम लेने को कहा गया था। इसके बाद अशरफ को बरेली जेल में यह फोन और सिम मुहैया कराया गया। इसी फोन से अतीक और अशरफ के बीच फोन पर हत्याकांड को लेकर साजिश रची गई। पूरी प्लानिंग के साथ दिनदहाड़े 24 फरवरी को उमेश पाल की हत्या को अंजाम दिया गया। पूछताछ के बाद से उमेश पाल हत्याकांड में माफिया की पत्नी शाइस्ता परवीन की भी भूमिका सामने आ गई है।

प्रयागराज में हमेशा से ये चर्चा रहा है कि अतीक अहमद का तीसरा बेटा असद परिवार के हर सदस्य का चहेता था। लेकिन आलम ये है कि उसकी मौत के बाद एक शख्स भी उसके शव को लेने नहीं पहुंचा। एनकाउंटर में असद के मारे जाने के बाद सूत्रों के हवाले से जानकारी मिली थी कि उसकी मां शाइस्ता परवीन बेटे असद का चेहरा देखने के लिए सरेंडर करने के विकल्पों पर अपने वकीलों से बात कर रही थी, लेकिन अब जानकारी मिली है कि वो सरेंडर नहीं करेगी। अतीक के करीबियों का कहना है कि शाइस्ता कल होने वाले असद के अंतिम संस्कार में भी शामिल नहीं होगी। गिरफ्तारी से बचने के लिए शाइस्ता हाई कोर्ट और फिर सुप्रीम कोर्ट का रुख कर सकती है। अगर सुप्रीम कोर्ट से उसे राहत नहीं मिलती है तो ही वो सरेंडर के विकल्प के बारे में सोच सकती है।
बता दें कि अतीक अहमद के बेटे असद का गुरुवार को झांसी में एनकाउंटर कर दिया गया. बेटे असद के साथ ही अतीक का खास गुर्गा गुलाम मोहम्मद भी मारा गया है। बेटे की मौत के बाद माफिया अतीक अहमद प्रयागराज पुलिस लाइन में फूट-फूटकर रोया था। इस दौरान बगल में उसके साथ अशरफ भी मौजूद था।

अन्य समाचार