मुख्यपृष्ठखेलऑस्ट्रेलिया है मजबूत हराना आसान नहीं!

ऑस्ट्रेलिया है मजबूत हराना आसान नहीं!

देशभर में इस समय सिर्फ दो चर्चाएं जोरों पर हैं। पांच राज्यों में होने वाले विधानसभा चुनाव और क्रिकेट विश्वकप की बातें हर किसी की जुबान पर हैं। हालांकि, चुनाव पर विश्वकप भारी पड़ रहा है। इसकी वजह है फाइनल में इंडिया और ऑस्ट्रेलिया की भिड़ंत। मतदान केंद्रों पर भी मताधिकार का इस्तेमाल करने आए लोग जब अपनी बारी आने का इंतजार कर रहे थे, तो उनके बीच प्रमुखता से वनडे विश्वकप को लेकर चर्चा भी हो रही है। बता दें कि कल अमदाबाद में विश्वकप का फाइनल होना है, जो भारत और ऑस्ट्रेलिया के बीच खेला जाएगा। सेमीफाइनल में न्यूजीलैंड को हराकर भारत और दक्षिण अप्रâीका को हराकर ऑस्ट्रेलिया फाइनल में पहुंचा है। भारत और ऑस्ट्रेलिया इससे पहले २००३ विश्वकप फाइनल में भी आमने-सामने थे। इस मैच में भारत को हार का सामना करना पड़ा था। अब फिर भारतीय टीम विश्वकप में १२ साल बाद फाइनल मैच खेलेगी। इस फाइनल मुकाबले में ऑस्ट्रेलिया को हराना आसान नहीं होगा, क्योंकि वो भी मजबूत टीम है। पिछली बार महेंद्र सिंह धोनी की कप्तानी में २०११ में टीम इंडिया खिताबी मुकाबले तक पहुंची थी। उसने मुंबई के वानखेड़े स्टेडियम में श्रीलंका को हरा दिया था। भारत १९८३ में वेस्टइंडीज को हराकर चैंपियन बना था। २००३ में उसे सौरव गांगुली की कप्तानी में ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ हार का सामना पड़ा था। भारत अब चौथी बार विश्वकप का फाइनल खेलेगा। दूसरी ओर कंगारू टीम आठ साल के बाद विश्वकप का फाइनल खेलेगी। वह १९८७, १९९९, २००३, २००७ और २०१५ में चैंपियन बनी थी। ऑस्ट्रेलिया को १९७५ और १९९६ के फाइनल में हार का सामना करना पड़ा था। उसे पिछली बार २०१९ में इंग्लैंड ने सेमीफाइनल में बाहर कर दिया था।

अन्य समाचार